Saturday, January 30, 2016

यहाँ तिरंगा जलाओ,पाकिस्तानी झंडा लहराओ,आज़ादी है।

हिंदुस्तान में एक पाकिस्तानी खिलाडियों को पसंद करने की आज़ादी है बिना किसी ख़ौफ़ के,बिना किसी रोकटोक के। हिंदुस्तान और पाकिस्तान के मैच के वक़्त आप हिंदुस्तान के एक बड़े हिस्से को पाकिस्तान समर्थक के रूप में महसूस कर सकते है। ये सब होता है खेल प्रेम और अभिव्यक्ति की आज़ादी । यहाँ हिंदुस्तान में पाकिस्तान का झंडा लहराने या तिरंगा जलाने पर भी कोई सख्त कार्यवाही नही होती। अब जरा सोचिये जो पाकिस्तान में हुआ विराट कोहली के एक फैन को दस साल की सजा दी जानी है । अगर वो हिंदुस्तान में होता तो यहाँ के ढोंगी बुद्धिजीवी और चापलूस लेखक सीना ठोक ठोक कर मर जाते या सड़को पर कपडे फाड़कर सरकार को गालियां बकते।कहते देश में असहनशीलता बढ़ रही है,और अवार्ड वापसी गैंग तो इतने अवार्ड लौटाने लगती है जितने कांग्रेस ने उनको कभी दिए भी नही। खैर छोड़िये..

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...