Friday, August 3, 2012

सिनेमा को मुंबई से छीनने के लिए शटलकॉक ब्‍वॉयज देखिए


♦ अविनाश
ल शटलकॉक ब्‍वॉयज रीलीज हो रही है। चार सालों के संघर्ष के बाद। इससे पहले कुछ फिल्‍म महोत्‍सवों में शटलकॉक ब्‍वॉयज दिखायी गयी है। अच्‍छा ये लग रहा है कि शटलकॉक ब्‍वॉयज उन फिल्‍मों की छोटी सी फेहरिस्‍त में शामिल हो गयी है, जिसने अपनी निर्माण प्रक्रिया में मुंबई का सहारा नहीं लिया। सिनेमा निर्माण के विकेंद्रीकरण को लेकर एक पूरी बहस इन दिनों चल रही है। एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार ने आधे घंटे की एक डॉक्‍युमेंट्री मेरठ में फिल्‍मों की खेती पर की थी। जैसे जैसे टेक्‍नॉलॉजी सस्‍ती और सुलभ होगी, उसकी विशेषज्ञता का समूह भी बड़ा होगा।
शटलकॉक ब्‍वॉयज इसका एक बेहतरीन उदाहरण हैं। युवा उद्यमिता (Youth Entrepreneurship) की एक सामान्‍य सी कहानी को चुस्‍त पटकथा, सहज संवाद और संयमित संपादन के जरिये बेहद रोचक बना दिया गया है। अलग अलग मन-मिजाज के चार दोस्त फॉर्मूला जीवन जीने से इनकार कर देते हैं और नये रास्‍ते पर चलने का जोखिम उठाते हैं।
बहुत पहले अखिलेश की एक कहानी चिट्ठी में चार ऐसे ही दोस्‍त हैं। भारत में उदारीकरण की धमक से पहले अखिलेश ने ये कहानी बुनी थी। विश्‍वविद्यालय के आखिरी दिन सारे दोस्‍त एक दूसरे को फेयरवेल देते हैं। सब एक दूसरे से वादा करते हैं कि जो जैसे जैसे अपने कैरियर में कामयाब होता जाएगा, वह सबको एक चिट्ठी लिखेगा। इस कहानी में लेखक भी एक पात्र है, जो आखिर में लिखता है कि अरसा हुआ, मेरे किसी भी दोस्‍त की चिट्ठी में आज तक मेरे पास नहीं आयी और मैंने भी किसी को चिट्ठी नहीं लिखी।
शटलकॉक ब्‍वॉयज “चिट्ठी” के दोस्‍तों की अगली पीढ़ी की कहानी है और इस बीच युवाओं की पूरी बुनावट बदल चुकी है। प्रचंड आत्‍मविश्‍वास उनके व्‍यक्तित्व का हिस्‍सा बन गया है। रिस्‍क एक कॉमन फेनॉमिना बन कर उभरा है। शटलकॉक ब्‍वॉयज इसी दौर के युवाओं की एक बेहतरीन कहानी है।
शटलकॉक ब्‍वॉयज के निर्देशक हैं, हेमंत गाबा। आईटी प्रोफेशनल हैं। पंकज जौहर के साथ मिल कर उन्‍होंने एक नयी लकीर खींची है। मोहल्‍ला लाइव ऑनलाइन पार्टनर के तौर पर इस फिल्‍म से जुड़ा है, सिर्फ इस वजह से नहीं, बल्कि अपने अपने मन के सिनेमा को संभव बनाने के लिए शटलकॉक ब्‍वॉयज देखने की अपील हम कर रहे हैं।
शटलकॉक ब्‍वॉयज का फेसबुक पेज : http://www.facebook.com/ShuttlecockBoys
शटलकॉक ब्‍वॉयज का इवेंट पेज : http://www.facebook.com/events/434756219898041
दिल्‍ली में जहां जहां फिल्‍म लगेगी : http://www.facebook.com/events/183194438477800

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...