Skip to main content

सिने बहसतलब : अनुराग के गीत जिंदा रहेंगे ?

सिने बहसतलब के पहले दिन बहुत देर से पहुंचा अनुराग कश्यप बस उठकर जाने ही वाले थे। मंच पर डॉ.चन्द्र प्रकाश द्रिवेदी,अभिषेक शर्मा और स्वानंद किरकिरे मुख्य रूप से उपस्तिथ थे। वहा होने वाली जायदा बातें तो याद नहीं रही बस स्वानंद की एक बात याद रह गयी,स्वानंद ने कहा की आज गानों की हालत फिल्म में उतनी ठीक नहीं है,कोर्पोरेट कंपनी को आज संगीत और म्यूजिक की जरुरत बस उतनी है जितनी की मोबाइल कंपनी को कॉलर टियून की। स्वानंद की बात ने गहरा प्रभाव छोड़ा की आज लेखक की स्वतंत्रता प्रोडूसर और कंपनी के मुनाफे में कैद है,लेखक की कलम उनके ही इशारे पर चलती है। 

अनुराग की फिल्मो की बात करें तो अनुराग की फिल्मों के गीतों में हमेशा एक वीर रस और उल्लास्ता को महसूस किया जा सकता है लेकिन यह दोनों चीज़ें कोर्पोरेट कंपनी के फॉर्मेट में बहुत जायदा जगह पाती हो ऐसा नहीं है तो ऐसे में मेरे जेहन में यह सवाल अगले दिन तक कौंधता रहा की क्या कुछ दिन बाद अनुराग की फिल्मो से गीत गायब हो जाएँगे क्योंकि जब गीत बिकेंगे ही नहीं तो उन पर बहुत अधिक समय तक पैसा खर्च करना  शायद इतनी समझदारी की बात नहीं मानी जाएगी 

इस सवाल ने मेरी फ़िक्र बड़ा दी थी,बहुत देर तक मैं सोचता रहा बहसतलब के पहले दिन का आखिरी दौर शुरू हुआ,मंच पर मैंने एक शक्श को देखा जिसके बारे में अविनाश जी अभी बताकर गए थे,यह शक्श राज शेखर थे राज शेखर को देखा तो यकीन नहीं हो रहा था की मैं जिस रंगरेज़ पर तब से झूम रहा हूँ वह इस शक्श की कलम का जादू है बात करने से राज शेखर बिलकुल अपनी तरह लगे,'' सा को श ''बोलने वाले ! 

राज शेखर ने आज मेरा सालों से कायम एक मिथ थोड दिया था  दरअसल पिछले कुछ सालों पहले मैंने सुना था की हमारे सागर के गीतकार और भूतपूर्व मंत्री विट्ठल भाई पटेल जिन्होंने ''ना माँगू सोना चाँदी'' और ''  ''झूठ बोले कौआ काटे'' जैसे गीतों को लिखा है,वो खुद ना लिखकर,जो उनके यहाँ एक नौकर काम करता था उससे लिखवाते थे और खुद के नाम से फिल्मो में देते थे यह खबर सागर में कही भी सुनी जा सकती थी,इस जानकारी ने मेरे ऊपर ऐसा असर किया की मुझे अधिकतर लेखक चोर नजर आने लगे थे .

जब स्वानंद और राज शेखर को सुना,उनके भीतर के लेखक को समझा और उनकी संजीदगी को महसूस किया तो लगा की कही ना कही लेखक सबके अन्दर होता है वहा से मैंने कोशिश की विट्ठल भाई पटेल जी को लेकर जो खबर है शायद अफवाह है उसे अब धुंधला कर देना चाहिए मेरी कोशिश पता नहीं कब तक कामयाब रहती है,लेकिन अभी तक कामयाब है 

बहसतलब के दौरान स्वरा भास्कर की उपस्तिथि ने मुझे प्रभावित किया क्योंकि अधिकतर ग्लेमरस एक्टर इस तरह के आयोजनों से कन्नी काटते है उन्हें सिनेमा के सरोकार या उसके विकास पर बात करने में कोई दिलचस्पी नहीं होती.ऐसे में स्वरा ने बहसतलब में आकर यह आस जगाई है की आगे आने वाले समय में बहसतलब में ऐसे कई और लोग जुड़ेंगे,जिनसे सिनेमा प्रभावित होता है 

दिल्ली की गर्मी में बहसतलब से शारीरिक और मानसिक दोनों तरह का सुकून नसीब हुआ कुल मिलाकार पिछले बार के बहसतलब से कई कदम आगे एक दर्शक और श्रोता की हैसियत से आशा करता हूँ की अगली बार बह निर्माता निर्देशक हिम्मत जुटाकर हमारे बीच पहुँच पायेंगे जो कचरा फिल्मो को भी बड़ा गौरवान्तित महसूस करते हुए हमारे बीच परोस रहे है 

जाते जाते सुधीर मिश्रा जी की मीडिया पर की गयी टिप्पड़ी ने सिनेमा पर मीडिया के चिंतन की पोल खोल दी की मीडिया हमसे तो चाहता है की सिनेमा के विकास और वजूद के लिए हम लोग जान दे दें लेकिन वह अपने  चैनलों पर २४ घंटे सलमान खान और मुन्नी बदनाम ही दिखाना चाहता है सिने बहसतलब एक सार्थक मंच साबित हुआ है उम्मीद है आने वाले समय में इसकी महत्वत्ता और जरुरत बहुत जायदा बढेगी       


संजय सेन सागर हिन्दुस्तान का दर्द ब्लॉग के मोडरेटर है एम.बी.ए.के स्टुडेंट है,साथ साथ फिल्म लेखन में प्रयासरत है mr.sanjaysagar@gmail.com या 09907048438 पर संपर्क किया जा सकता है      

                  

Comments

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।