Skip to main content

सत्‍यमेव जयते : बड़ा विजेता कौन, आमिर या स्‍टार?

आमिर को मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बेटी बचाओ अभियान से जुड़ने का न्‍यौता दिया है। कन्‍या भ्रूण हत्‍या को लेकर आमिर आज राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री से भी मिले हैं। यह सब  उनके पहले टीवी शो 'सत्‍यमेव जयते' का असर है। इस शो पर स्‍टार इंडिया और आमिर खान का बड़ा दांव लगा है। अब तक मिल रहे संकेतों से दांव सफल लगता है। चुनौती है, यह सफलता बनाए रखने की।
 
आमिर खान:  आमिर खान का टेलिविजन पर यह पहला शो है। इसलिए बतौर होस्‍ट उनकी छवि दांव पर थी। वह यह छवि पुख्‍ता करने में सबसे आगे निकल गए हैं और उनकी ब्रांड वैल्‍यू काफी मजबूत हुई है। 

 
वह इस शो के प्रत्येक एपीसोड के लिए तीन करोड़ रुपए फीस ले रहे हैं। किसी शो की एंकरिंग के लिए अभी तक बॉलीवुड में किसी भी स्टार को इतनी रकम न कभी मिली है और न ही कभी ऑफर की गई है। अमिताभ बच्चन (कौन बनेगा करोड़पति), शाहरुख खान (कौन बनेगा करोड़पति, क्या आप पांचवी पास से तेज हैं), सलमान खान (बिग बॉस, दस का दम), अक्षय कुमार (खतरों के खिलाड़ी, मास्टर शेफ इंडिया) और रितिक रोशन (जस्ट डांस) जैसे सितारों की फीस भी एक एपिसोड के लिए एक से दो करोड़ रुपए के बीच ही है।  आमिर की फीस तीन करोड़ रुपए होना यह साबित करती है कि उनकी मार्केट वैल्यू इस समय सबसे ज्यादा है। शो को मिले रिस्‍पॉन्‍स से यह भी साबित हो रहा है कि सामाजिक  सरोकारों से जुड़े रहने वाले बॉलीवुड स्‍टार के रूप में भी उन्‍होंने अपनी छवि खासी मजबूत कर ली है।
 
स्‍टार की कमाई 
 
शो के एक एपिसोड की लागत भी करीब चार करोड़ रुपए है जो किसी भी अन्य शो से ज्यादा है। औसतन प्राइम टाइम में प्रसारित होने वाले टीवी शो के तीस मिनट के एक एपिसोड की लागत 8-10 लाख रुपए ही आती है। वहीं रियलटी शो के एक एपिसोड की लागत भी 35 लाख रुपए से दो करोड़ रुपए तक आती है। यह लागत इस बात पर ज्यादा निर्भर करती है कि शो को कौन होस्ट कर रहा है।   
 
स्टार इंडिया के सीओओ संजय गुप्ता के मुताबिक ‘सत्यमेव जयते’ का दस सेकंड के विज्ञापन स्लाट की कीमत भी दस लाख रुपए है। यह कितना महंगा है इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इस साल आईपीएल के प्राइम टाइम में दस सेकंड के विज्ञापन स्लाट के रेट चार लाख रुपए हैं। लेकिन शो पर रुपयों की बारिश हो रही है।
 
भारत की सबसे बड़ी मोबाइल टेलीकॉम कंपनी भारती एयरटेल लिमिटेड इस शो की मुख्‍य प्रयोजक है। एयरटेल ने शो में 18 करोड़ रुपए लगाए हैं। वहीं वॉटर प्यूरीफायर कंपनी एक्वागार्ड ने भी 16 करोड़ रुपए शो में लगाए हैं। शो के सह प्रायोजकों में एक्सिस बैंक लिमिटेड, कोका कोला इंडिया, स्कोडा आटो इंडिया, बर्जर पेंट्स इंडिया लिमिटेड, डिक्सी टेक्स्टाइल प्राइवेट लिमिटेड और जॉनसन एंड जॉनसन लिमिटेड हैं। इन 6 कंपनियों ने भी 6-7 करोड़ रुपए (सभी का मिलाकर लगभग 40 करोड़ रुपए) शो में लगाए हैं। इस तरह देखा जाए तो यह शो फायदे में है। 
 
स्‍टार के नौ चैनलों पर इस शो का प्रसारण हो रहा है। इसलिए इस शो के लिए स्टार ने अपनी मार्केंटिंग और सेल्स रणनीति में भी थोड़ा बदलाव किया है। एक ही कैटेगरी के प्रोडक्ट में एक ही कंपनी को सत्यमेव जयते का एड स्लॉट दिया गया है। इस शो की लोकप्रियता का आलम यह है कि शो के पहले ट्रेलर के प्रसारित होने से पहले ही इसके 80 प्रतिशत एड स्लॉट बिक गए थे। आमिर खान और स्टार इंडिया, दोनों के ही इस शो पर इंटेलेक्चुअल प्रापर्टी राइट्स होंगे। इस शो के जरिये आमिर की फिल्‍म इंडस्‍ट्री और स्‍टार इंडिया की मीडिया इंडस्‍ट्री में अलग ब्रांड वैल्‍यू बनेगी। 
 
13 एपिसोड के इस शो का प्रसारण दूरदर्शन पर भी हो रहा है जिस कारण स्टार इंडिया दूरदर्शन को होनी वाली आय का भी कुछ हिस्सा रखेगा। 
                                        
लोकप्रियता 
'सत्‍यमेव जयते' पर एक और मामले में बड़ा दांव लगा है। बल्कि यह एक बड़ा ‘जुआ’ है। संडे को उबाऊ माने जाने वाले 11 बजे वाले स्लॉट को फिर से जिंदा करने की कोशिश की गई है।  शो के पहले एपिसोड की टीआरपी 8.7 रही है। केबीसी-5 के शुरुआती एपिसोड की टीआरपी 5.2 के करीब रही थी। हालांकि पांच करोड़ जीतने वाले सुशील कुमार के दो एपिसोड ने इस शो की लोकप्रियता बढ़ा दी थी। इन दोनों शो की टीआरपी क्रमश: 7.2 और 8 रही। 
 
सत्‍यमेव जयते के पहले एपिसोड की टीआरपी से स्‍टार और आमिर, दोनों खुश हैं। आगे क्‍या स्थिति रहती है, इस पर उनकी नजर रहेगी। हालांकि मीडिया के कुछ जानकारों का कहना है कि सत्‍यमेव जयते का विषय हल्‍का-फुल्‍का नहीं है, ऐसे में चैनल को दर्शकों से टीवी स्‍क्रीन से चिपकाए रखना मुश्किल होगा।
 
बॉलीवुड के पीआर गुरू के तौर पर मशहूर डेल भगवागर को भी यकीन नहीं था कि आमिर का यह शो एक आंदोलन का रूप ले लेगा। हालांकि अब डेल कहते हैं, ‘आमिर खान ने मनोरंजन चैनलों को किसी सामाजिक मुद्दे पर करोड़ों रुपये खर्च करने की राह दिखाई है। उनकी यह कोशिश काबिले-तारीफ है।’ 
कोट
 
‘सत्‍यमेव जयते’ के जरिये हमने नई बुलंदियों को छुआ है। पिछले कई वर्षों में यह हमारी सबसे बड़ी कामयाबी है। इस शो के जरिये हम मनोरंजन की नई परिभाषा गढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। परंपरागत तौर पर मनोरंजन को ड्रामा, नाच और गाने से जोड़ कर देखा जाता है। लेकिन समाज का असली चेहरा भी लोगों के सामने आना चाहिए और इसे रचनात्‍मकता के साथ पेश किया जाना चाहिए। सत्‍यमेव जयते ऐसा ही करने जा रहा है। 
- उदय शंकर, सीईओ, स्‍टार इंडिया

Comments

  1. ऐसा लगता है कि जो काम बड़े बड़े नेता या बाबा नहीं कर सकते वह हमारे अभिनेता कर पाएँगे. शायद भारत में इन्कलाब फ़िल्मी दुन्या से आ सके.
    आमिर खान को चाहिए कि धर्मो मज़हब के नशे में डूबे हिंदुस्तान को जगाने की कोशिश करें . सबसे ज्यादह खतरा देश को इससे ही है. खास कर उप-महाद्वीप के मुसलामानों को जगाने की ज़रुरत है.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।