Skip to main content

सचिन का जवाब- 400 बच्‍चों का खर्च उठाता हूं


मुंबई. संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप ने सचिन तेंडुलकर के राज्यसभा में मनोनयन पर संवैधानिक सवाल खड़े किए तो मंगलवार को सचिन तेंडुलकर ने भी अपनी योग्यता के बारे में विस्तार से बता दिया। सचिन ने कहा कि मैं 400 गरीब बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाता हूं।

सोमवार को कश्यप ने कहा था कि संवीधान की धारा 80 (G) के तहत सिर्फ कला, साहित्य, विज्ञान या समाजसेवा क्षेत्र से संबंधित व्यक्ति को ही नामित किया जा सकता है।

राज्यसभा के लिए मनोनीत होने के बाद पहली बार मीडिया से मुखातिब हुए सचिन ने जोर देकर कहा कि वो खिलाड़ी हैं और खिलाड़ी ही रहेंगे। उन्‍होंने कहा कि वह 22 सालों से देश के लिए क्रिकेट खेल रहे हैं और  इसी नाते उनका राज्‍यसभा के लिए मनोनयन किया गया है। इसे उन्‍होंने बहुत बड़ा सम्‍मान बताया।

सचिन ने कहा कि सबसे पहले यही कहना चाहूंगा कि महामहिम राष्ट्रपति जब आपका नाम उस सूची में मनोनीत करती हैं जिसमें पहले कई बड़ी-बड़ी हस्तियां जैसे लता मंगेशकर जी और पृथ्वीराज कपूर जैसे लोग मनोनीत हो चुके हैं तो आपको अच्छा लगता है। मनोनयन किसी क्षेत्र में योगदान के आधार पर होता है।
मैं साढ़े 22 साल देश के लिए क्रिकेट खेला हूं, मुझे लगता है कि देश के लिए इतने लंबे वक्त तक खेलने के कारण राष्ट्रपति ने मेरा नाम मनोनीत किया, मैं खिलाड़ी हूं, राजनेता नहीं हूं और हमेशा खिलाड़ी ही रहूंगा।
मुझे ये लगता है कि काफी जिम्मेदारियां हैं लेकिन मैं ये मानता हूं कि मुझे आज तक जो भी सम्मान मिला है वो क्रिकेट के कारण ही मिला है। क्रिकेट मेरी जिंदगी है और क्रिकेट ही मेरी जिंदगी रहेगा।   मुझे याद है कि कुछ समय पहले इंडियन एयरफोर्स ने भी सम्मानित करते हुए ग्रुप कैप्टन बनाया था लेकिन मैंने आज तक हवाई जहाज नहीं उड़ाया है।

मुझे लगता है कि क्रिकेट के बाहर खिलाड़ियों के लिए मैं जो भी कर पाया वो करूंगा। मैं खेल के लिए जरूर कुछ न कुछ करना चाहूंगा। मुझे उम्मीद है कि आपका मुझे इस काम में पूरा सहयोग मिलेगा। मैं जो आगे करना चाहता हूं उसमें मुझे आपके सपोर्ट की आवश्यक्ता है। मैं फिर दोहराता हूं कि मैं खिलाड़ी हूं और हमेशा खिलाड़ी ही रहूंगा।

सचिन ने जीवन के हर पहलू पर बात की। उन्होंने कहा कि मैं भी आज  बच्चों का पिता हूं और अब महसूस करता हूं कि बचपन  में जब मैं शिवाजी पार्क के पास अपने चाचा के घर रहता था तो मेरी मां मुझसे मिलने क्यों आती थी।

अपनी निजी जिंदगी के बारे में खुलकर बात करते हुए सचिन ने कहा कि वो भाग्यशाली हैं कि उनके जीवन में अंजलि जैसी साथी हैं। सचिन ने यह भी कहा कि अंजलि और उनका परिवार बचपन से एक दूसरे को जानता था।

जब सचिन से पूछा गया कि वो इतनी प्रसंशा और आलोचना के साथ कैसे एडजस्ट करते हैं तो उन्होंने जवाब दिया कि यह मैंने अपने परिवार से सीखा है, यह घर में एक बिना लिखा हुए कानून जैसा था, जो हो गया उसे तुम वापस नहीं ला सकते, सही तरीका यह है कि बस जीवन में आगे बढ़ते रहो।

कई तरह से समाजसेवा में संलिप्त रहने वाले सचिन ने यह भी कहा कि उन्हें अपने समाजसेवा के कामों के बारे में बात करना अच्छा नहीं लगता। सचिन ने कहा, मुझे इस बारे में बोलना अच्छा नहीं लगता, मैं बच्चों की शिक्षा में सहयोग करता हूं, मैं सोचता हूं कि जब मेरे बच्चे अच्छी शिक्षा पा सकते हैं तो फिर दूसरों के बच्चे क्यों नहीं। मैं 400 गरीब बच्चों की शिक्षा का जिम्मा उठा रहा हूं, हर व्यक्ति को अपनी हैसियत के हिसाब से समाजसेवा करनी चाहिए, देने का सुख असीम होता है।

सचिन ने कहा कि मैं भूतकाल या भविष्य के बारे में नहीं सोचता, मैं सिर्फ वर्तमान में जीता हूं, मैं समस्याओं को समाधान के रूप में देखता हूं और इसी तरह उनसे निपटता हूं। सब कुछ आपके नजरिए पर हैं। जैसा आपका नजरिया और तरीका होता है वैसा ही आपका जीवन भी हो जाता है।

बैटिंग के दौरान में अपने पल्स रेट को कम रखने की कोशिश करता हूं, आप जितना कम दवाब महसूस करेंगे उतनी ही सक्षमता से बैटिंग कर पाएंगे।  बैटिंग के दौरान  ध्यान केंद्रित करना और दिमाग को खाली रखना भी जरूरी है।

सचिन ने यह भी कहा कि उनका सौंवा शतक भी विश्वकप जीतने से महान नहीं है। सचिन ने कहा कि विश्व कप जीतना मेरे जीवन का सबसे महान पल था। हालांकि सचिन ने यह भी कहा कि यह उनके जीवन का सबसे बड़ा मैच नहीं था।

जीवन के सबसे बड़े मैच को याद करते हुए सचिन ने कहा कि यह पाकिस्तान के खिलाफ 2003 विश्वकप के दौरान खेला गया मैच था। सचिन ने कहा कि 2003 विश्वकप में पाकिस्तान के खिलाफ खेला गया मैच उनके जीवन का सबसे बड़ा था। इस मैच को लेकर 2002 से ही चर्चाएं शुरु हो गई थी। 3 मार्च भारत और पाकिस्तान के बीच के मुकाबले के लिए तय की गई थी। मैंने इस मैच में खेलने के लिए बहुत पहले से तैयारी शुरु कर दी थी। उस समय  पाकिस्तान के पास विश्व के सबसे बेहतरीन गेंदबाज थे। 274 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए हमारा उद्देश्य यह था कि विकेट न गंवाए जाएं। मैंने एक सकारात्मक एप्रोच अपने खेल में दिखाया और इसका विपक्षियों पर असर हुआ।  मैंने वीरू से कहा था कि मैं वसीम अकरम का ज्यादा मुकाबला करूंगा। उस वक्त मुझे अकड़न की समस्या हो गई। यह मेरे क्रिकेट करियर में पहली बार था जब मैंने रनर की सहायता ली। लेकिन मैं 98 रन के स्कोर पर आउट हो गया। गौरतलब है कि भारत ने यह मैच जीत लिया था।

Comments

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।