Thursday, March 8, 2012

दो हॉकी को मौका !




ना छक्का ना चौका ;
दो हॉकी को मौका ;
सजा लो लबों पर बोल 
कर दे गोल ..........कर दे गोल ! 




shikha   kaushik  

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर गीत ....

    ReplyDelete
  2. bahut prernadayak v laybaddh.aapki aawaz me sunna bahut achchha laga.

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा प्यारा व प्रेरणादायक गीत है।

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...