Wednesday, February 29, 2012

ये है मिशन लन्दन ओलंपिक !


आठ साल बाद मिला है मौका .
लक्ष्य हो बस ओलंपिक पुरुष हॉकी GOLD !
भारतीय पुरुष हॉकी टीम को हार्दिक शुभकामनायें !
[यू ट्यूब  पर मेरे द्वारा रचित व् स्वरबद्ध यह  गीत  भारतीय हॉकी टीम को प्रोत्साहित करने वाली भावनाओं से ही ओतप्रोत है .आप सुने व् सुनाएँ .स्वयं भी गायें .]
ये  है मिशन  लन्दन ओलंपिक 
[फेसबुक पर मैंने यह पेज  बनाया  है आप इसे लाइक कर सकते हैं .]
YE HAI MISSION LONDON OLYMPIC !

                                                                   शिखा कौशिक

मेरी कविताओं का संग्रह: दो जन्म

मेरी कविताओं का संग्रह: दो जन्म: हाँ , आज हुआ है मेरा जन्म , एक शानदार हस्पताल में .... कमरे में टीवी है ... बाथरूम है ...फ़ोन है .... तीन वक्त का खाना आता है ..... जब म...

सारांश यहाँ आगे पढ़ें के आगे यहाँ

Tuesday, February 28, 2012

एक वोट डाल कर मैदान मार ले!


आज उत्तर प्रदेश  के  छठे  चरण  में  मतदान जरूर करे  व् सही प्रत्याशी को चुनकर विधानसभा  में भेंजें  . 



वोट डाल ले ...वोट डाल ले ..
अब के इलेक्शन में वोट डाल ले .


सबसे जरूरी ये काम जान ले ;
कर न बहाना ये बात मान ले ;
वोट डाल ले ...वोट डाल ले .


वोटिंग  का  दिन  है  ये छुट्टी  नहीं 
इससे  बड़ी कोई ड्यूटी नहीं ;
चल बूथ  पर  वोटर  कार्ड साथ ले ;
वोट डाल ले .....


दादा चलें संग दादी चले ;
भैया के संग संग भाभी चले 
घर घर से वोटर साथ ले 
वोट डाल ले .......


हमको मिला मत का अधिकार ;
चुन सकते मनचाही सरकार ;
लोकतंत्र का बढ़ हाथ थाम ले .
वोट डाल ले .......


साइकिल से जा या रिक्शा से जा ;
कार से जा या स्कूटर से जा ;
कुछ न मिले  पैदल भाग ले 
वोट डाल ले .......


कैसा हो M .P .....M .L .A ?
तुझको ही करना है ये निर्णय ;
एक वोट डाल कर मैदान मार ले .
वोट डाल ले .....
                                          जय हिंद !
                           शिखा कौशिक 
               [नेता जी क्या कहते हैं ]





कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: जब इस्लाम मूर्ति पूजा के विरुद्ध है तो मुसलमान काब...

कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: जब इस्लाम मूर्ति पूजा के विरुद्ध है तो मुसलमान काब...: काबा मतलब किबला होता है जिसका मतलब है- वह दिशा जिधर मुखातिब होकर मुसलमान नमाज़ पढने के लिए खडे होते है, वह काबा की पूजा नही करते. मुसलमान कि...

Thursday, February 23, 2012

नसीहत और तरबियत

- सलीम अख्तर सिद्दीकी

एक हाईप्रोफाइल मुसलिम परिवार की शादी शहर के सबसे महंगे रिसॉर्ट में हो रही थी। मैं एक पुराने परिचित के साथ बातचीत में मशगूल था। करीब में ही दो और शख्स, जिन्हें मैं भी अच्छी तरह से जानता था, खड़े होकर बातचीत कर रहे थे। तभी उनके पास एक वेटर पहुंचा, जो ट्रे में कोल्ड ड्रिंक के गिलास लिए हुआ था। दोनों ने एक-एक गिलास उठा लिया। एक ने उल्टे हाथ से गिलास उठाया था। उसने गिलास मुंह की तरफ बढ़ाया ही था कि दूसरे शख्स ने उसे टोकते हुए कहा, ‘यार अब तो आदत बदल लो। उल्टे हाथ से खाना-पीना हमारे हमारे पैगंबर को बहुत नापसंद था’। उसने शर्मिदा होते हुए गिलास सीधे हाथ में पकड़ लिया और बोला, ‘बचपन की आदत है, अब कहां जाने वाली है।’ दूसरे ने तंज के साथ कहा, ‘यह तुम्हारी नहीं, तुम्हारे वालिदेन की गलती है। उन्होंने तरबियत सही नहीं की तुम्हारी।’ उनकी बात सुनते हुए मैंने उस शानदार गॉर्डन में नजरें दौड़ाईं, जहां यह शादी हो रही थी। शादी में कहीं पर भी इसलामिक कल्चर की छाप नहीं थी। लोग खड़े होकर खाना खा रहे थे। महिलाएं डिजाइनदार कपड़ों में गहरा मेकअप किए इठलाती घूम रहीं थीं। एक ओर डीजे पर भौंडे गाने चल रहे थे, जिनकी धुनों पर अजीबो-गरीब कपड़े पहने युवा जबरदस्ती डांस करने की कोशिश कर रहे थे। खास बात यह थी कि उन युवाओं में उस शख्स का छोटा भाई भी था, जो सीधे और उल्टे हाथ के बारे में नसीहत दे रहा था। अब उन दोनों की बातचीत का विषय शहर की पॉलिटिक्स पर हो गया था। मैं भी अपने परिचित के साथ बातों में मशगूल हो गया। थोड़ी देर बाद मेरे कानों में आवाज पड़ी, ‘अब्बू मुझसे यह नहीं खाया जा रहा, क्या करुं इसका? मैं कुछ और खाऊंगा।’ मैंने आवाज की दिशा में देखा। नसीहत देने वाले शख्स का बेटा, जिसकी उम्र दस-बारह साल रही होगी, एक प्लेट में बहुत सारा खाना लिए खड़ा था, जो शायद अब उससे खाया नहीं जा रहा था। नसीहत देने वाले ने बहुत ही सहजता से कहा, ‘कोई बात नहीं बेटा, यह प्लेट सामने वाले डस्टबिन में डाल दो और नई प्लेट लेकर जो खाना हो, वह ले लो।’ पता नहीं क्यों, अब उस शख्स को पैगंबर की याद क्यों नहीं आई?



Wednesday, February 15, 2012

ब्लॉग पहेली चलो हल करते हैं ]



ब्लॉग पहेली-१४ 

बहुत आसान है इन्हें पहचानना.ये कौन हैं ?सबसे पहले बताइए और ''विजेता बन जाइये .







                                             शुभकामनाओं के साथ 
                            शिखा कौशिक   
                    [ब्लॉग पहेली चलो हल करते हैं ]

Monday, February 13, 2012

नेता जी...

पांच साल के बाद दर्शन दिए है नेता जी॥
पूछो क्या क्या काम क्षेत्र में किये है नेता जी॥
बिजली पानी की बहुत किल्लत॥
दूर बहुत स्कूल,,
कच्ची सड़क पे धुल उड़त है॥
कैसे मिले सुकून,,
जनता कय हिस्सा खाय गए...
घपला किये है नेता जी...
गाँव मा केतनी मैयत होय गय॥
केतना भावा उत्पात॥
आवारा लरिका केतना तहरत है...
के पूछे उनके हाल...
नन्कौवा के नौकरी के खातिर॥
रिश्वत लिए है नेता जी...

मेरी कविताओं का संग्रह: ये उनका शहर है!

मेरी कविताओं का संग्रह: ये उनका शहर है!: भोपाल स्थित यूनियन कार्बाइड कम्पनी के कारखाने से एक हानिकारक गैस का रिसाव हुआ जिससे लगभग 15000 से अधिक लोगो की जान गई तथा बहुत सारे लोग अंधा...

Saturday, February 11, 2012

हास्य मुक्तिका: ...छोड़ दें?? -- संजीव 'सलिल'


हास्य मुक्तिका:
...छोड़ दें??
संजीव 'सलिल'
*
वायदों का झुनझुना हम क्यों बजाना छोड़ दें?
दिखा सपने आम जन को क्यों लुभाना छोड़ दें??

गलतियों पर गलतियाँ कर-कर छिपाना छोड़ दें?
दूसरों के गीत अपने कह छपाना छोड़ दें??

उठीं खुद पर तीन उँगली उठें परवा है नहीं
एक उँगली आप पर क्यों हम उठाना छोड़ दें??

नहीं भ्रष्टाचार है, यह महज शिष्टाचार है.
कह रहे अन्ना कहें, क्यों घूस खाना छोड़ दें??

पूजते हैं मंदिरों में, मिले राहों पर अगर.
तो कहो क्यों छेड़ना-सीटी बजाना छोड़ दें??

गर पसीना बहाना है तो बहायें आम जन.
ख़ास हैं हम, कहें क्यों करना बहाना छोड़ दें??  

राम मुँह में, छुरी रखना बगल में विरसा 'सलिल'
सिया को बेबात जंगल में पठाना छोड़ दें??

बुढाया है तन तो क्या? दिल है जवां  अपना 'सलिल'
पड़ोसन को देख कैसे मुस्कुराना छोड़ दें?

हैं 'सलिल' नादान क्यों दाना कहाना छोड़ दें? 
रुक्मिणी पा गोपियों को क्यों भुलाना छोड़ दें??
Acharya Sanjiv verma 'Salil'

http://divyanarmada.blogspot.com
http://hindihindi.in

Monday, February 6, 2012

लो क सं घ र्ष !: हिंदी के महान साहित्यकार सुभाष चन्द्र कुशवाहा के कार्यालय में भ्रष्टाचार नहीं होता ?

ऐसे महान साहित्यकार को लोकसंघर्ष का शत् !-शत् ! नमन ?

हिंदी के महान साहित्यकार श्री सुभाष चन्द्र कुशवाहा बाराबंकी जनपद में सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी (ए.आर.टी.ओ ) के पद पर कार्यरत हैं। ए.आर.टी.ओ कार्यालय में कोई भी दलाल नहीं है। गाडी स्वामी सीधे जाते हैं और उनके कार्य नियमानुसार हो जाते हैं ? विभाग में किसी गाडी स्वामी का उत्पीडन नहीं होता है ? ड्राइविंग लाइसेंस बगैर किसी रिश्वत दिए बन जाते हैं। अंतर्गत धारा 207 एम.बी एक्ट के तहत कागज होने पर लागू नहीं किया जाता है ?
श्री कुशवाहा साहब के बाराबंकी में ए.आर.टी.ओ पद पर तैनाती के बाद उनके कार्यालय के कर्मचारियों ने रिश्वत खानी बंद कर दी है ? श्री कुशवाहा साहब भी रिश्वत नहीं खाते हैं ? लखनऊ में साधारण मकान में आप निवास करते हैं लेकिन जनपद स्तर के अधिकारी होने के नाते वह कभी मुख्यालय नहीं छोड़ते हैं ? आम आदमी की तरह श्री कुशवाहा साहब अपनी तनख्वाह में जीने के आदी हैं ? श्री कुशवाहा साहब सत्तारूढ़ दल की रैलियों के लिये कभी वाहन पकड़ कर रैली में जाने के लिये बाध्य नहीं किया है ? इस तरह से हिंदी के वरिष्ठ साहित्यकार अन्य साहित्यकारों के लिये प्रेरणा स्रोत्र हैं और हर हिंदी के साहित्यकार को उनसे प्रेरणा लें, यदि उपरोक्त नियम-उपनियम के विरुद्ध कार्य कर रहे हों या कभी-कभी रिश्वत खा रहे हों तो बंद कर देना चाहिए ?
अगर आपको मेरी बात पर विश्वास हो तो बाराबंकी जनपद कर ऐसे ऐतिहासिक महापुरुष का दर्शन करें तथा कार्यालय में उक्त बिन्दुओं पर ध्यान देकर अन्य सरकारी कार्यालयों में उसको लागू करवाने की नसीहत ले सके

सुमन
लो क सं घ र्ष !

Thursday, February 2, 2012

Tasveer !!!!! Slideshow

Tasveer !!!!! Slideshow Slideshow: TripAdvisor™ TripWow ★ Tasveer !!!!! Slideshow Slideshow ★ to Varanasi. Stunning free travel slideshows on TripAdvisor

सारांश यहाँ आगे पढ़ें के आगे यहाँ

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...