Saturday, October 8, 2011

अब तो सच से दर लगता है...

सच कहने से पता नहीं क्यों॥
उछल कूद मच जाती है॥
शांत मौन हो बैठ जाते है...
बुराई हमें रुलाती है॥
हैरत अंगेज करिश्मे होते॥
ताली सभी बजाते है॥
बेईमानो के साथ खड़े हो॥
हाथ सभी उठाते है॥
बुरे लोगो के साथ हमेशा॥
परछाई भी मुस्काती है॥

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...