Wednesday, September 28, 2011

जब रुक गयी थी कलम हमारी..

जब रुक गए थे हाथ हमारे॥
रोती रही कलम,,
जब भ्रष्टाचार का भ्रष्ट दरोगा॥
देने लगा रकम॥
वह नोटों की गद्दी मुझको देता॥
लगती हमें शरम॥
जब रुक गए थे हाथ हमारे॥
मै हक्का बक्का भौचक्का सा॥
रोक रहा था कदम॥
जब रुक.............
जब समझाने की कोशिस करता॥
वह तैले मेरा बजन...
जब रुक गए थे हाथ हमारे...

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...