Thursday, March 24, 2011

देखती आँखे...

jaisaa ki आज के दैनिक जागरण में मैंने पढ़ा की आसाम से गांजा ला रहे दो लोगो को पुलिस ने पकड़ा...
ये बात तो ठीक है पुलिस ने पकड़ा लेकिन ऐसी बात बहुत बार पढ़ने को मिलता की कोई आये दिन कोई न कोई मादक पदार्ध लिए पकड़ा ही जाता रहता है... लेकिन पुलिस तह तक क्यों नहीं जाती जहा जहा पर गंजा वगैरा बेचा जाता जो लोग बेचते है उन्हें क्यों बंद करती क्यों तह तक नहीं जाती पुलिस... हर एक एरिया में हर एक गाँव के अगल बगल देशी दारू गांजा वगैरा वगैरा गांवो में घर पीछे असह्लाहा मिल सकता है लेकिन क्या सरकार इन पर ध्यान दे तो सरकार बहुत कुछ्ह हासिल कर सकती है....

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...