Sunday, February 13, 2011

वेलेंटाइन डे-प्यार या कुछ और

वेलेंटाइन डे प्यार का दिन,एक ऐसा दिन जब जिधर देखो प्यार की खुशबू फ़ैल जाती है .दुकानों पर कहीं चोकलेट्स कार्ड्स,कई परफ्यूम ,टेडी बियर सज रहे हैं तो सड़कों पर युवाओं की कतारों की कतारें हैं.लगभग सभी जान चुके हैं कि १४ फरवरी का दिन वेलेंटाइन डे है लेकिन यह क्यों मनाया जाता है इससे शायद कुछ ही लोगों का वास्ता पड़ा होगा किन्तु मैं सबसे पहले इन संत वेलेंटाइन के देश का जिक्र करूंगी और वह भी यूं कि ये रोम के पास एक शहर के थे ,वही रोम जो इटली की राजधानी है और उस देश के इस दिवस को यहाँ के उसी युवा वर्ग ने कितनी खुली मानसिकता से अपना लिया जबकि उसी देश की सोनिया गाँधी को यहाँ अब तक भी विदेशी कहा जाता है जबकि उनका भी तो राजीव गाँधी से प्रेम ही था जिस कारण उन्होंने भारत को और भारत की संस्कृति को अपनाया तो उन्हें स्वीकारने में यहाँ संकीर्ण मानसिकता क्यों अपनाई जाती है?
        खैर यहाँ बात हो रही है सेंत वेलेंटाइन की तो जहाँ तक मुझे जानकारी है उन्होंने रोमन शासक क्लाडियस के सैनिकों पर महिलाओं के साथ प्यार जताने और विवाह करने पर प्रतिबन्ध को चुनौती दी थी और "पूरे रोम में घूमकर प्रेम के सूत्र को लोगो को समझाना शुरू किया था और इसकी जानकारी मिलने पर  क्लाडियस ने सेंत वेलेंटाइन को जेल में डलवा दिया था.और उन्हें फांसी की सजा सुनायी थी .सेंत वेलेंटाइन ने अपनी फांसी के लिए १४ फरवरी का दिन तय किया.उन्होंने अपनी फांसी के दिन ही जेलर की बेटी को सन्देश लिखा और उसे फ़ैलाने को भी.सन्देश के नीचे लिखा "तुम्हारा वेलेंटाइन"बस इसी दिन से प्यार जताने का यह तरीका अमर हो गया."[साभार-मनविंदर भिभर रिपोर्ट ,हिंदुस्तान ,शनिवार -१२ फर.२०११ मेरठ]
     एक और प्यार की खुशबू से वातावरण महक रहा है तो दूसरी ओर प्यार में दहशत के रंग दिखाई दे रहे हैं.अमर उजाला में शनिवार को प्रकाशित एक समाचार "लखनऊ में छात्रा को स्कूल के पास गोली मारी ".कुछ ऐसे ही हालत बयां कर रहा है जो  "प्यार"शब्द  के हमारी युवा पीढ़ी में गलत सन्देश की बात कह रहे हैं.क्या आप इसे प्यार कहेंगे जिसके वशीभूत हो आशीष वर्मा ने साक्षी की गोली मार कर हत्या कर दी .मुजफ्फरनगर में भी एस.डी. डिग्री कॉलिज  में एक युवक ने छात्रा की गोली मरकर हत्या कर डी थी.मैं ही क्या सभी प्यार को त्याग का ही रूप कहते हैं .जिसे प्यार करते हो उसकी ख़ुशी की खातिर खुद लुट जाने की बात की जाती है न कि उसे लूट लेने की.प्यार बलिदान देता है मांगता नहीं .आज वेलेंटाइन का सन्देश युवा पीढ़ी भुना रही है किन्तु अपनी इच्छाओं की पूर्ति करने में .प्यार के गलत अर्थ लगाये जा रहे हैं ओर सेंत वेलेंटाइन का सन्देश अंधेरों में धकेला जा रहा है.प्यार कहता है कि यदि आप किसी से प्यार करते हो तो उसकी खातिर बिन मोल बिक जाओ ओर उसकी इच्छा के अनुसार चलो न कि उसे अपनी इच्छा अनुसार चलने को विवश करो.ये अपनी इच्छा लादने का ही नतीजा है कि ऐसे दिवस पर चप्पलें,गोलियां चलती है और प्यार की खुशबू की जगह खून की नदियाँ बहाई जाती हैं.मैं इस दिवस पर कवि संजय जैन के शब्दों में यही कहूँगी-
"प्रीत की लहरों पर हम चढ़ना उतरना सीख लें,
ओर अगर अच्छा लगे तो प्यार करना सीख लें." 

2 comments:

  1. आपकी प्रस्तुति प्रशंसनीय है .हमें हर मुद्दे के दोनों पहलुओं को विस्तार से जानना चाहिए .बधाई .

    ReplyDelete
  2. संजय जी आपने वेलेंटाइन डे के समर्थन में अच्छी कहानी लिखी या जहा से भी आपने पढ़ी सत्य मानकर उसका उल्लेख यहाँ किया और उसके साथ आपने सोनिया गाँधी को भी जोड़ दिया !संजय जी ऐसी ही कुछ अलग तरह की कहानी मैंने भी पढ़ी थी जिसमे कही वेलेंटाइन को राजा के दरबार का सैनिक कहा तो कही उसे संत कहा गया परन्तु वास्विकता क्या है इसका कोई भी प्रमाण नहीं है यह तो अंधी दौड़ है जिसमे विपरीत आकर्षण के मोहपाश में बंधकर आज के युवक युवती दौड़ रहे है यह वही देश है जहा लैला मजनू ,शिरी फ़रहाद ,हीर राँझा ,शशि पुन्नू ,साहिबा मिर्जा जैसे प्रेमी पैदा हुए है परन्तु हमारे देश में इन्हें प्यार का वह मुकाम तो नहीं मिला परन्तु बदनामी जरुर मिली किसी रोड छाप को मजनू की औलाद कहना अथवा इसके लिए पुलिस प्रशासन द्वारा ओपरेशन मजनू चलाना
    प्यार की मिशाल देखनी है तो मंदिरों में आप देख सकते है जहा राधा कृष्ण की मूर्ति एक साथ देखने को मिलेगी
    आपने सोनिया गाँधी का जिक्र किया यह भारत देश है जिसने वर्षो पहले सोनिया राजीव के रिश्ते को स्वीकार था परन्तु देश की सत्ता सँभालने के विषय में उस देश में पैदा होना अनिवार्य है और यही वजह है की सोनिया गाँधी इस देश की बहु तो हो सकती है परन्तु इस देश के सर्वोच्च नेतृत्त्व को सँभालने का अवसर उसे नहीं दिया जा सकता इस बात को स्वयम सोनिया गाँधी भी अच्छे से समझती है

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...