Thursday, January 13, 2011

सर्दी का उपहार



सर्दी कि जब बात हो ,
              परिवार का भी साथ हो !
नई नवेली दुल्हन कि ,
               घर मै जब पुकार हो !
मूंगफली कि आवाज़  हो ,
              गुडपट्टी का भी साथ हो !
और एसे मै फिर ..............
              लोहड़ी कि ही न बात हो !
इस बार तो फिर ...........
       लहलहाती फसलों कि ही सोगात  हो !
हर किसान के चहरे पर 
              बल्ले -बल्ले कि ही आवाज़ हो !
हर घर के आँगन मै ...........
              ढोल - नगाड़ों का ही साथ हो !
तो हो जाये एक बार ...............
             सुन्दर  - मुंदरिये हो ........
             तेरा कोंन बेचारा रे .............
            दूल्हा भट्टी  वाला हो ..............
            दुल्हे दी धी व्याही हो .........
             सेर शक्कर पाई हो !   
आप सबको लोहड़ी  कि शुभकामनायें ! 

1 comment:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...