Thursday, January 6, 2011

मनन...डा श्याम गुप्त...



       मनन

“यदा वै मनुत, अथ विजानाति । नामत्वा विजानाति । मत्वैव विजानाति । मतिस त्येव विजिज्ञासित व्येति । मतिं भगवो   विजिज्ञासे इति ॥” –छांदोग्य उपनिषद
 व्यक्ति जब मनन करता है तभी( किसी वस्तु का ) ज्ञान होता है। मनन किये बिना नहीं जान सकता। अतः मनन को जानने की इच्छा करें कि भगवन ! मैं मनन को जानना चाहता हूं।

किसी वस्तु की वास्तविकता व गहराई जानने हेतु उसमें डुबकी लगाना आवश्यक होता है। मनन क्या है , यह भी ठीक प्रकार से जानना चाहिये ।

2 comments:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...