Thursday, December 23, 2010

गुर्जर फिर हर कर भी जीते

राजस्थान में गुर्जरों को आरक्षण के नाम पर हाईकोर्ट ने संविधान और देश का कानून बता दिया हे , सरकार भी अपने किये पर पछता रही हे लेकिन गुर्जर हें के हर कर भी जितने के तय्यारी में जुट गये हें , गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बेसला को हाईकोर्ट से आरक्षण का इंकार कर देने की कोई चिंता नहीं हे वोह अपनी ताकत के दम पर सरकार को झुकाने की कोशिशों में जुट गये हें दो दिन में ही गुर्जरों ने सरकार की सालों की कोशिशें बेकार साबित कर दी हें गुर्जर भाई सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगा रहे हें और पहले उन्होंने माहोल में अपनी ताकत बता कर हाईकोर्ट को प्रभावित करने का प्रयास किया फिर हाईकोर्ट से हरने के बाद सरकार से जितने की कोशिशों में जुट गये हें , राजस्थान में कोटा ,भीलवाडा.डोसा,भरतपुर माधोपुर जहां खी भी हो गुर्जरों का प्रभाव हे सरकार चाहे कानून व्यवस्था की कितने ही बढ़ी बढ़ी बातें कहे लेकिन यह सच हे के सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई हे इस बार सरकार की जरा सी भी ना समझी गुर्जरों की तपती आग को शोला बना सकती हे और फिर दो साल के शांति प्रयास धरे रह जायेंगे कर्नल किरोड़ी सिंह को सरकार ने पहले भाजपा का प्यादा समझा बात सही भी साबित हुई वोह भाजपा से कोंग्रेस के नमोनारायण मीणा के खिलाफ लड़े और उन्हें नाकों चने चबा दिए फिर किरोड़ी ने सरकार को उनका प्रतिनिधि बन कर झुकाया एक प्रतिशत आरक्षण लिया फिर अबा वोह अपनी गुर्जर सेना को मरो मरो के तर्ज़ पर रेलवे पटरियों और हाइवे पर लेकर दत गये हें उनके एक इशारे पर राजस्थान ठप्प हो गया हे राजस्थान सरकार की सारी जासूसी और तय्यरियाँ धरी रह गयी हे और अभी भी गुर्जरों के दबाव के आगे सरकार को कोई न कोई फार्मूला तो निकलना ही पढ़ेगा वेसे तो सरकार को इस मामले में पहले से ही तय्यारी कर के रखना थी लेकिन सरकार के पास जनता ओर समस्याओं के बारे में सोचने की फुर्सत कहां हे तो दोस्तों सरकार की नासमझी की वजह से अब राजस्थान में अख़बार, चपाल, चोराहे, और ब्लोगिस्तान में गुर्जर खबरों की ही सुर्खियाँ रहेंगी । अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...