Monday, December 27, 2010

कृष्ण के वंशज ...गुर्ज़रों को आन्दोलन की आवश्यकता है क्या...डा श्याम गुप्त --

आखिर गुर्जर आन्दोलन का लक्ष्य क्या है?-- 5% सरकारी नौकरियां --आखिर क्यों ? यदि कृष्ण चाहते तो कंस की नौकरी करके मज़े से रहते पर उन्होंने मटकी फोड़ने का मार्ग चुना ....गोकुल-बृज धाम की अपनी स्वतंत्र अर्थव्यवस्था का , अपनी स्वायत्तता का मार्ग , कर्म का मार्ग... । क्यों देश-दुनिया को दुग्ध प्रदान करने वाला समाज, एक स्वतंत्र अर्थ व्यवस्था वाला समाज अपने बच्चों को नाकारा, बाबूगीरी अभ्यस्त ,आलसी, पराबलंबी बनाना चाहता है , नौकरी का चस्का लगाकर । वे क्यों नहीं उन्हें अपना स्वतंत्र व्यवसाय करने का परामर्श देते। विभिन्न बैंकों , समाजसेवी संस्थाओं , एन आर आई की सहायता से वे अपना स्वतंत्र दुग्ध , दुग्ध -खाद्य पदार्थों का स्वतंत्र व्यवसाय कर सकते हैं। स्व के साथ देश, समाज की भी सेवा...कृष्ण की भांति....

आरक्षण की वैशाखी वाले समाज आज कहाँ हैं , उनकी क्या दशा है सभी जानते हैं । उनके बच्चे स्कूल , संस्थान सभी जगह अन्य इतर अनारक्षित के शब्द वाणों -- अयोग्य ,अपात्र, सरकारी दामाद, पहुँच वाले,--आदि का दंश किस तरह झेल रहे हैं , आरक्षण की वैशाखी से वे समाज की मुख्य धारा से कट रहे हैं । अपने मुख्य उद्योग -धंधों से कट रहे हैं , उनके अपने धंधे चौपट हो रहे हैं । वे अपनी ही जाति में स्व को ऊंचा समझने के स्व-अहं में घिर कर अपने ही समाज से कट रहे हैं । यदि एसा ही रहा तो धीरे धीरे जातियां -सम्प्रदाय व्यवस्था व उनकी स्वतंत्र आर्थिक-सामाजिक व्यवस्था नहीं रहेगी और सब अपने में मस्त व्यक्तिवादी होकर रह जायंगे, पाश्चात्य समाज की भांति , एकल समाज ।
क्या कृष्ण के वंशज समय रहते चेतेंगे? कर्म का मार्ग अपनाएंगे...देश को सुपथ दिखाकर ....???????

2 comments:

  1. आदरणीय गुप्तजी ,

    आप की बातोंसे मैं शतप्रतिशत सहमत हूँ । भारत एक कर्मप्रधान देश है यदी यंहा कर्म को महत्त्व नहीं देते जाति वर्ग को महत्व देते तो शायद मंदिरों में राम, कृष्ण , महादेव की पूजा नहीं होती , कबीर , मीरा , रैदास अन्य अपने कर्मो से महान हुए है । मेरा तो यही मत है की हर जाति या वर्ग को अपने अस्तित्व को बनाय रखने के लिए आरक्षण की बैसाखी का सहारा न लेकर अपने कर्म के द्वारा अपनी सामजिक आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाये ।

    ReplyDelete
  2. स्म्रिति जी , धन्यवाद...पर प्रश्न है कि कितने लोग सहमत हैं व इसपर विचार करने को सहमत हैं...क्या जो लोग आरक्षण की मलाई खारहे हैं वे सहमत होंगे...या इसपर सोचने की भी कोशिश करेंगे...

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...