Friday, December 10, 2010

भ्रस्टाचार पर बहस का मजाक ?

भ्रस्टाचार का नाम आते ही अब जेहन में तूफान नही मचता क्यूँ ? क्यूंकि हम उसे जेहनी तौर पर स्वविकार चुके है दरअसल हर उस मुद्दे को भोथरा बना धार बिहीन करने की साजिश लम्बे समय से चल रही है वरन यह कहा जाये की साजिश के बीज बोये गये जो अब भ्रस्टाचार की लहलाहती फसल में बदल गये है इसी साजिश की दूसरी शक्ल है किसी भी मुद्दे का खाशियत का क़त्ल कर देना ताकि जब भी भ्रस्टाचार जैसा शब्द कान में पड़े तो सामने वाला तत्काल बोल पड़े की "अरे यह सब तो चलता ही रहता है" हल ही में फिर से देश परदेश में भ्रस्टाचार के कुछ नये पुराने मामलो पर बहस जारी है !
हाल ही में पूर्ब मुख्य सचिव नीरा यादव के जेल जाने और अनाज घोटाले पर अदालत की फटकार के बाद इस मुद्दे ने आम आदमी के दिलो दिमाग को एक बार फिर झकझोरदिया है !पर क्या नीरा से बाकि अफसर कुछ सीख लेंगे !क्या अनाज घोटाले में कोई जेल जायेगा !या ये सब टीबी और अखबारों की सुर्खिया बनकर ही रह जायेंगे !द्स्ताबेजो की माने तो अनाज घोटाला देश का सबसे बड़ा घोटाला बन गया है जो की लगभग ३५००० करोड़ का है !यह २००५ -२००४ में मुलायम सरकार में हुए थे जिसमे ८ सीडियो,सहित १७५ पर मुकदमा दर्ज़ है !इसी प्रकार मायावती के कार्यकाल में ताज कारीडोर मामला भी लगभग १७५ करोड़ का हुआ ,हालत ये हो गये की इसमें मायावती का नाम आने पर उन्होंने मुख्यमंत्री रहते हुए २५ अगस्त २००३ को इस्तीफा तक दे दिया था !मुलायम सिंह के जमाने में हुआ पुलिसभर्ती घोटाला भी खूब चर्चा में रहा इसमें भी २५ आई पी एस ,११० पी पी एस ,शामिल बताये गये हालाकि बाद में हाई कोर्ट ने ३५००० पुलिस वालो को बहाल कर दिया था !
भ्रस्टाचार के इस मुद्दे पर पूर्ब पुलिस महा निदेशक एस एन शुक्ल का साफ कहना है की -जिस अफसर के मन में जरा भी निष्ठां हो उसे अपना काम बिना किसी दबाब के करना चाहिए ,इसमें कोई नुकसान नही होता पर गलत करने पर कभी न कभी तो जबाब देना ही पड़ता है ,हालत अखंड और नीरा जैसे भी हो सकते है !हवा कह रही है है की आने वाले समय में खासकर न्याय पालिका भ्रस्ताचारियो को बख्सने वाली नही है ,इसी पद से अवकाश ले चुके श्री राम अरुण का भी कुछ ऐसा ही कहना है की -गलत ढंग से पैसा कमाने और नेतावो के इशारे पर कंही भी मुहर लगाने वाले अफसरों को समझना होगा की उनका हाल भी इन्ही दोनों जैसा हो सकता है ,मेरा विचार है की अगर कुछ अफसर भी कमर कस लें तो भ्रस्टाचार को ख़त्म किया जा सकता है ,नेता कितने अफसरों को झुका लेंगे ,आई पी एस ,आई ऐ एस का ओ कर भी क्या सकते है बीएस नुकसान इतना होगा की मलाईदार पोस्ट नही मिलेगी पर फायदा बहुत होगा !
कुंवर समीर शाही

1 comment:

  1. जी हाँ,भ्रष्टाचार अपने देश में चरम पर है.मुश्किल ये है की आप शिकायत किससे करेंगे क्योंकि जिससे शिकायत करेंगे वो भी भ्रष्ट है. पूरा ढांचा चरमरा गया है.मेरा एक दोहा है:-
    बढ़ता जाता अनवरत,दहशत का माहौल.
    लोकतंत्र बीमार है , भ्रष्टाचार सुडौल .

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...