Skip to main content

कलम का सिपाही -2 कविता प्रतियोगिता में भाग लें.

कलम का सिपाही कविता प्रतियोगिता एवं निबंध प्रतियोगिता-2010 के बाद हिन्दुस्तान का दर्द आपके लिए लेकर आया है कलम का सिपाही -2 यह भी एक कविता प्रतियोगिता है ,इस प्रतियोगिता का मकसद भी होगा हिंदी की सेवा,दोस्तों हिंदी की रक्षा करना हर हिन्दुस्तानी का फर्ज है और हिंदी की रक्षा करना मतलब खुद पर गर्व करना है,तो दोस्तों खुद पर गर्व करो और हिंदी की रक्षा करो..तब तक हिंदी बोलो जब तक कोई आपकी बात सुनने पर मजबूर न हो जाए,उसके सामने हिंदी बोलो जो हिंदी को छोटा मानता है. आइये बात करते है प्रतियोगिता की,

कलम का सिपाही -2 प्रतियोगिता जिसके अंतर्गत लेखक अपनी कविताएँ हम तक पहुंचा सकते है कविता किसी भी विषय पर आधारित हो सकती है लेकिन एक लेखक की केवल एक की कविता मान्य है. कविता प्रतियोगिता के किन्ही दो विजेताओं को 1000 रुपए की किताबों से पुरुस्कृत किया जायेगा,इस प्रतियोगिता को लेकर कुछ बहुत कम से नियम बनाएँ गए है जिनके अंतर्गत आप अपनी कविता हम तक भेज सकते है. कविता भेजने की अंतिम तिथि - 10 जनवरी 2011 है.

नियम-
     
१.आपकी कविता अपमानजनक, संतर्जक, आक्रामक, निंदात्मक, किसी की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचाने वाला या ऐसा कोई कन्टैंट जो की अनुचित, धृष्ट, अश्लील, निंदा करने वाला, प्रताड़ित करने वाला, मिथ्यावादक, किसी भी तरह से भेदभावपूर्ण, या घृणा फैलाने वाला अथवा किसी व्यक्ति या समूह को हानि पहुंचाने वाला, या फिर प्रतियोगिता के प्रसंग या स्वभाव के अनुपालन में ना आने वाली नहीं होना चाहिए.

2 .आपकी कविता मौलिक होनी चाहिए.


3 .कविता के साथ अपना परिचय,फोटो सहित प्रस्तुत करें एवं कोशिश करें की कविता यूनीकोड में हो साथ ही विषय के रूप में प्रतियोगिता का नाम लिखें.  


4 . प्रतियोगिता साइट में किसी भी तरह की कमी आने, देरी होने, नुकसान, गलत निर्देश, अपूर्ण, अस्पष्ट, प्रतियोगिता में न पहुंचने या सिस्टम में कमी अपने के कारण निबंध के नष्ट होने, फेल होने, अपूर्ण या कंप्यूटर पर ठीक से न दिखना, दूरसंचार प्रणाली में अन्य कोई कमी आने, किसी भी तरह के हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर में कमी आने, नेटवर्क कनेक्शन के बंद होने या न मिलने, टाइपिंग या किसी तरह की मानवीय/प्रणाली त्रुटियों और विफलताओं, टेलीफोन नेटवर्क या लाइन, केबल कनेक्शन, सेटेलाइट ट्रांसमिशन, सर्वर और सेवा प्रदाता या कंप्यूटर उपकरण में किसी तरह की कमी आने, इंटरनेट पर या प्रतियोगिता साइट पर ट्रेफिक या इनमें से किसी के संयोजन, अन्य दूरसंचार, केबल, या डिजिटल और सेटेलाइट में कोई कमी के चलते यदि कोई प्रतियोगी प्रतियोगिता में भाग नहीं ले पाता है तो इसके लिए प्रतियोगिता चलाने वाली कंपनी किसी भी तरह से जिम्मेदार नहीं होगी.

कविता भेजने के लिए इस पते ईमेल करें.
mr.sanjaysagar@gmail.com

किसी भी जानकारी के लिए फ़ोन करें-
+ 91-9907048438



   

Comments

  1. very nice..

    mere blog par bhi sawagat hai..
    Lyrics Mantra
    thankyou

    ReplyDelete
  2. bahut aachha saarthak sarahaniya prayas ke liye aabhar

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर प्रयास। मैने तो अपनी कविता भेज भी दी है। कभी मेरे ब्लाग पर भी पधारें। धन्यवाद।

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।