Saturday, November 27, 2010

दबंग दरोगा' पर चली गांव वालों की दबंगई, पड़े लात-घूंसे

बाढड़ा (भिवानी). हडौदी गांव में चोरी के एक आरोपी के बारे में पूछताछ करने आए राजस्थान पुलिस के एक एसएचओ और एक पुलिस कर्मचारी को गांववालों ने जमकर पीटा और उन्हें काफी देर तक बंधक बनाए रखा। रात को मामला डीएसपी दादरी के पास पहुंचा तो उन्होंने स्थानीय पुलिस को भेजकर दोनों को छुड़वाया। पुलिसवालों की पिटाई के केस में बाढड़ा पुलिस ने गांव के दो युवकों को नामजद करते हुए अन्य कई लोगों पर केस दर्ज किया है।

राजस्थान के सीकर कोतवाली के एसएचओ रामगोपाल आठ पुलिसकर्मियों के साथ दो प्राइवेट वाहनों से रात करीब नौ बजे गांव हड़ौदी पहुंचे। ये सभी पुलिसकर्मी सादे कपड़े में थे। राजस्थान पुलिस ने गांव में जाने की सूचना बाढड़ा पुलिस को नहीं दी। पुलिस को बिजेन्द्र उर्फ शोभा पहलवान से रामबीर नाम के एक आरोपी के बारे में पूछताछ करनी थी। पूछने पर पता चला कि वह पड़ोस के खेत में है

मौके पर पहुंचे पुलिसवालों ने उसे वाहन में बैठने को कहा तो उसने इनकार कर दिया। इस बात को लेकर पुलिस और शोभा पहलवान के साथियों का झगड़ा शुरू हो गया। बात बढ़ती देख सैकड़ों ग्रामीण जमा हो गए। गांववालों की संख्या ज्यादा होते ही पुलिसवाले भागने लगे। इनमें से सात तो भाग निकले, लेकिन एसएचओ और एक अन्य पुलिसकर्मी गांववालों की पकड़ में आ गए। ग्रामीणों ने पहले तो दोनों को बंधक बनाया उसके बाद लात और घूंसो से जमकर धुनाई की।

डीसीपी ने करवाया मुक्त


गांव से भागे सभी पुलिसकर्मी बाढड़ा थाने पहुंचे और मामले की जानकारी दी। बाढड़ा के एसएचओ अनिल ने इसकी सूचना दादरी के डीएसपी सुरेश को दी तथा दोनों एक साथ हड़ौदी पहुंचे। डीएसपी सुरेश ने मौके पर पहुंचकर राजस्थान के पुलिस एसएचओं रामगोपाल और पुलिसकर्मी राजकुमार को छुड़वाया तथा ग्रामीणों की बात सुनी। डीएसपी ने एसएचओ और पुलिसकर्मी को दादरी के सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया और सुबह दोनों इलाज के बाद सीकर रवाना हो गए।


कनपटी पर लगाया था पिस्तौल


इस मामले में ग्रामीणों का कहना है कि राजस्थान पुलिस के कर्मचारी बिना वर्दी के थे और उन्होंने आते ही शोभा की कनपटी पर पिस्तौल लगा दिया। इसका खेत के पड़ोसियों ने इसका विरोध किया। इस पर उन लोगों ने हवाई फायर किए और भागने लगे। उधर, राजस्थान के एसएचओ रामगोपाल ने बाढड़ा पुलिस को बताया कि उन्होंने कोई फायर नहीं किया और वे तो पूछताछ के लिए गए थे।


शुक्रवार को इस मामले को लेकर हड़ौदी के ग्रामीण बाढड़ा थाना प्रभारी अनिल और भिवानी के एसपी से मिले। दोनों से मिलकर गांववालों ने राजस्थान पुलिस द्वारा लगाए गए आरोपों को झूठा बताया। बाढड़ा पुलिस ने राजस्थान पुलिस टीम की शिकायत पर हड़ौदी निवासी शोभा पहलवान और अनिल पहलवान समेत एक दर्जन अन्य युवकों पर अपहरण कर जानलेवा हमला करने और पुलिस के काम में बाधा डालने का मामला दर्ज किया है। मामले में अभी तक किसी भी युवक की गिरफ्तारी नहीं हुई है।


1 comment:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...