Wednesday, October 27, 2010

दोषी कोन



ख़बरे कहती हैं की ? युवापीढ़ी बिगड़ गई है !
कितना आसां है किसी को दोष देना 
और इतना कहना की वो बिगड़ गया है 
हाथ पकड़ कर चलना तो उसने हमसे ही सिखा है 
घर मै रह कर ही तो कदम बढाना जाना है 
फिर उसका दोष  पहले कहाँ आता है ?
वो तो सिर्फ हमारे ही नक़्शे कदम पर जाता है 
उसको दोष देने से पहले अपने गिरेबान को तो  देखो 
कही अपनी की गई गलती की सजा उसको न दे डालो 
वो जो हमे सम्मान देना चाहता है
 वो सब हमसे ही सिख के जाता है 
क्युकी जब अच्छी आदतों की बात आती है ?
वो सब  हमारी विरासत हो जाती है 
और जो गलत काम वो करता है 
तो वो उसके हिस्से मै चली जाती है 
तो मेरा तो बस इतना ही मानना है 
की जब ऊँगली पकड़ के चलना सिखाया  है तो 
हाथ पकड़ के बढना क्यु  नहीं ?
क्युकी जिन्दगी का सफ़र तो ?
 तमाम उम्र सहारा खोजता ही रहता है 
फिर युवा वर्ग दोषी केसे हो सकता है 
वो तो सिर्फ सही राह की तलाश मै है 
हाथ थामे रहोगे तो तलाश भी ख़तम होगी !
और उसके सर लगा इलज़ाम भी ? 

4 comments:

  1. मैं क्या बोलूँ अब....अपने निःशब्द कर दिया है.....

    ReplyDelete
  2. सही कहा---अगली पीढी के पतन के लिये पहली पीढी की भूलें, उदासीनता, अच्छे उदाहरण सामने न रखपाना , गलत नीतियां ही तो जिम्मेदार होती हैं, जैसा बोया जायएगा वही फ़सल तो मिलेगी।

    ReplyDelete
  3. सहमत हूं,श्याम गुप्ता जी से ।

    ReplyDelete
  4. में आप सभी की आभारी हु की आपने मेरे लेख को पड़ा और विचार प्रकट किये धन्यवाद दोस्तों !

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...