Tuesday, September 28, 2010

सादगी

    
सादगी वो अदा है जिसका कोई सानी नहीं है !
सादगी ही इंसा को इंसा की हकीक़त बतलाती है !
सादा जीवन उच्च विचार इंसा का परिचय करवाती है !
सादगी ही इंसा को इंसा के और  करीब ले आती है !
सादगी ही असल जीवन से उसका परिचय करवाती है !
सादा जीवन ही मानव का असल जीवन का गहना है !
और ऊपर का आवरण तो इसी जग मै रहना है !
सादगी ही मानव की सभ्यता का प्रतीक है !
अपने लिए कठोर दुसरो के लिए कोमल है सादगी !

7 comments:

  1. सादगी ही मानव की सभ्यता का प्रतीक है !
    अपने लिए कठोर दुसरो के लिए कोमल है सादगी !
    अंतिम पंक्तियाँ दिल को छू गयीं.... बहुत सुंदर कविता....

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अल्फाज और बेहतरीन भाव की रचना

    ReplyDelete
  3. सही कहा///सादगी का भला क्या सानी.

    ReplyDelete
  4. और चूंकि आजकल हो गयी है ईद के चाँद सी ,
    इसलिए और भी बढ़ गयी है कीमत-ए-सादगी

    लिखते रहिये ..

    ReplyDelete
  5. आप सबका का बहुत -२ धन्यवाद दोस्तों येसे ही हमारा होंसला बढ़ाते रहिएगा !

    ReplyDelete
  6. सार्थक रचना। अच्छे विचार। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. सादगी भरा जीवन सुखी जीवन ..... सादगी एक दृष्टिकोण है ...
    बहुत अच्छी बात कही है इस रचना में ....

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...