Saturday, August 21, 2010

मै खुद ख़ुशी कर लूगा..

मै खुद ख़ुशी कर लूगा॥
नौकरी छूटी..बीबी रूठी॥
किस्मत भी फूटी॥
लय भी टूटी॥
मै जान दे दूगा...
मै खुद ख़ुशी कर लूगा॥
गम लगे सताने सब लगे डराने...
अगल बगल के मारे ताने॥
मै जहर पी लूगा...
क्या कहूगा कहा पाऊगा॥
बच्चो को कपडे॥ कैसे लूगा॥
मै प्राण दे दूगा...

4 comments:

  1. खुद ही मरोगे,
    नुकशान अपना ही करोगे ,
    फिर क्या गारंटी है कि
    वहां पहुँच शकुन मिल जाए
    कही यमराज के चमचे कहने लग गए कि
    हमारी भी जेब गरम करो
    वरना जैसा किया है वैसा भरोगे
    खुद ही मरोगे,
    नुकशान अपना ही करोगे ,
    इसलिए जीने का प्रयास करो,
    संघर्ष से न डरो !


    हा-हा-हा , हलके में लीजिएगा बंधू , कोई उपदेश नहीं झाड रहा :)

    ReplyDelete
  2. jindagi se toot kar mai toot chuka hoo...

    ReplyDelete
  3. आपको जो यह जिन्‍दगी मिली है,
    इसमें खुदकुशी के अलावा भी बहुत कुछ है करने को,
    बस जरूरत है अपना हौसला बनाये रखने की .....।

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...