Saturday, July 10, 2010

मेरी मौत बुला रही है..

लगता है मेरी मौत मुझको बुला रही॥
देखो ज़रा गगन में ओ सज के आ रही है॥
मेरी भी अर्थी को तुम लोग भी सजाओ॥
गम में थोड़ा डूब के आंसूओ को बहाओ॥
मेरी करनी कथनी पे ओ मुस्का रही है॥
लगता है मेरी मौत मुझको बुला रही॥
देखो ज़रा गगन में ओ सज के आ रही है॥

मैंने कभी किसी पे दया दृष्ट नहीं डाली॥
मौक़ा मिला हमें जब खाली किया थाली॥
कैसे कर्म थे मेरे अब मुझको बता रही है॥
लगता है मेरी मौत मुझको बुला रही॥
देखो ज़रा गगन में ओ सज के आ रही है॥

सदा किया था घात सूझा हमें उत्पात॥
हमेशा मैंने अपनी दिखया था औकात॥
मेरे ही पाप की बू से बदबू आ रही है॥
लगता है मेरी मौत मुझको बुला रही॥
देखो ज़रा गगन में ओ सज के आ रही है॥

2 comments:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...