Skip to main content

बेहतरीन अदाकारी का इनाम ट्रक भरकर फूल


भावना सोमाया

जब कोई फिल्म चलती है तो कोई भी उसकी सफलता के कारण की पड़ताल करने की परवाह नहीं करता, लेकिन फिल्म के पिट जाने पर सभी समीक्षक बन जाते हैं। रावण के साथ यही हो रहा है। समीक्षक फिल्म की कहानी, रणनीतिकार फिल्म के प्रचार और दर्शक फिल्म के चरित्र चित्रण को दोष दे रहे हैं। दर्शकों और फिल्म जगत को मणिरत्नम की फिल्म से बहुत उम्मीदें थीं। लेकिन ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब कोई अतिप्रचारित फिल्म पिट गई हो।

यह बड़े-बड़े फिल्मकारों के साथ भी हो चुका है। राज कपूर की मेरा नाम जोकर, यश चोपड़ा की सिलसिला और लम्हे, बोनी कपूर की रूप की रानी, चोरों का राजा, सुभाष घई की यादें, अमिताभ बच्चन की मृत्युदाता.. सभी इसी श्रेणी में आती हैं। कुछ लोग नाकामी के दौर से गरिमा के साथ बाहर आते हैं। कुछ खामोशी से इसका सामना करते हैं तो कुछ इसे चुनौती की तरह लेते हैं। अमिताभ बच्चन ने यही किया था, जब कौन बनेगा करोड़पति से उन्होंने जोरदार वापसी की थी।

वे भले ही अपनी निजी जिंदगी में बहुत ज्यादा शब्दों का इस्तेमाल नहीं करते हों, लेकिन सदाशय प्रतिक्रियाएं देने में वे कभी पीछे नहीं रहे। 70 के दशक में अपनी एक सहकलाकार के अच्छे अभिनय पर उन्होंने ट्रक भरकर फूल भिजवाए थे। हेमा मालिनी से लेकर अनिल कपूर और आमिर खान से लेकर शाहरुख खान तक सभी महानायक के शुभकामना संदेशों की दरियादिली के कायल हैं।

एक बातचीत में अमिताभ बच्चन ने उन यादगार फिल्मों और दृश्यों को याद किया, जिसके बाद उन्होंने कलाकारों को शुभकामनाएं भेजी थीं। अमिताभ ने बताया ‘मुझे दिल चाहता है इतनी अच्छी लगी कि मैंने सैफ, आमिर, फरहान और अक्षय को व्यक्तिगत रूप से फूल भिजवाए। नेमसेक में इरफान खान और तब्बू का अभिनय कमाल का था। खासतौर पर तब्बू का टेलीफोन दृश्य, जहां उसे पति की मौत की खबर मिलती है।

परिणीता में विद्या बालन सम्मोहक थीं। मैं उनसे नजरें नहीं हटा सका। मेरे साथ ऐसा पहले वहीदा रहमान की फिल्में देखते ही हुआ था। मेरे ख्याल से स्वदेस में शाहरुख ने अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ अभिनय किया था। करीना की इतनी फिल्में हैं, लेकिन मुझे उनका एक विज्ञापन बहुत पसंद है, जिसमें उनके एक्सप्रेशन देखते ही बनते हैं। गुरु में अभिषेक ने फिल्म का अंतिम दृश्य बहुत अच्छे से किया था। पा के अस्पताल वाले दृश्य में भी वे बहुत प्रभावी थे। कमीने में शाहिद कपूर के क्लोज अप दृश्य शानदार थे।

वे मुझे गोआ की फ्लाइट में मिले तो मैंने उन्हें इसके लिए बधाई दी। प्रतीक बब्बर एक खोज हैं। जाने तू या जाने ना में उन्होंने इस तरह सहज अभिनय किया, जैसे उन्हें कैमरे का कोई भान ही नहीं हो। जोधा अकबर में रितिक रोशन अद्भुत थे। खासतौर पर ख्वाजा मेरे ख्वाजा गाने के दौरान, जब वे उठकर सूफियों के साथ नाचने लगते हैं। मैं थिएटर में यह फिल्म देख रहा था और मुझे महसूस हुआ कि मुझे खड़े होकर इस दृश्य पर ताली बजानी चाहिए।

थ्री इडियट्स में शरमन जोशी का इंटरव्यू दृश्य और हाल ही के उनके सारे मोबाइल फोन विज्ञापन बेहतरीन हैं। इनमें उनकी सहजता और एक्सप्रेशन की बारीकियां नजर आती हैं। रावण के क्लाइमैक्स दृश्य में ऐश्वर्या ने जो एक्सप्रेशन दिया है, अगर उसे डायलॉग के रूप में लिखें तो दस पेज लग जाएंगे। और सबसे अंत में रावण में वह दृश्य, जहां बीरा को रागिनी के प्रति अपने आकर्षण का पता चलता है। यह मणिरत्नम का जादुई सिनेमा है। खालिस जादू!’

लेखिका की सिनेमा पर नौ किताबें प्रकाशित हैं।

Comments

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।