Wednesday, June 23, 2010

पित्तृ दिवस पर : स्मृति गीत / शोक गीत --संजीव 'सलिल'

पित्तृ  दिवस पर :

स्मृति गीत / शोक गीत
संजीव 'सलिल'
*

याद आ रही पिता तुम्हारी
याद आ रही
पिता तुम्हारी...
*
तुम सा कहाँ
मनोबल पाऊँ?
जीवन का सब
विष पी पाऊँ.
अमृत बाँट सकूँ
स्वजनों को-
विपदा को हँस
सह मुस्काऊँ.
विधि ने काहे
बात बिगारी?
याद आ रही
पिता तुम्हारी...
*
रही शीश पर
जब तव छाया.
तनिक न विपदा
से घबराया.
आँधी-तूफां
जब-जब आये-
हँसकर मैंने
गले लगाया.
बिना तुम्हारे
हुआ भिखारी.
याद आ रही
पिता तुम्हारी...
*
मन न चाहता
खुशी मनाऊँ.
कैसे जग को
गीत सुनाऊँ?
सपने में आकर
मिल जाओ-
कुछ तो ढाढस-
संबल पाऊँ.
भीगी अँखियाँ
होकर खारी.
याद आ रही
पिता तुम्हारी...
*
 


No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...