Friday, June 18, 2010

हम तुझे जाने न देगे.गम कभी आने न देगे..


अग्नि को साक्षी मान कर॥

सात फेरे हम लिए॥

हम तुझे जाने न देगे॥

गम कभी आने न देगे॥

लड़ जाए उस बला से॥

जो तेरा अपमान करे॥

मांगना है मांग लो॥

हम आसमा के तारे देगे॥

हम तुझे जाने न देगे॥
गम कभी आने न देगे॥

जब तक ज़िंदा रहू जमी पर॥

हम तुम्हे हंसना सिखाये॥

गर कभी आये मुशीबत॥

साथ मिलकर उसे भगाए॥

कल तेरा कोई मीत आये॥

हम उसे आने न देगे॥

हम तुझे जाने न देगे॥
गम कभी आने न देगे॥

हंसी खुसी से रहे सदा सब॥

यही दुआ तुम कीजिये॥

कोई भूँखा न जाए द्वार से॥

उसको खाना दीजिये॥

गर कोई फिर आँख दिखाए॥

आँख को हम फोड़ देगे॥

हम तुझे जाने न देगे॥
गम कभी आने न देगे॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...