Thursday, June 17, 2010

हमें जाना पडेगा..

मुझे रोक न सकोगे॥
हमें जाना पडेगा॥
होगा जभी इशारा॥
फिर आना पडेगा॥
छुट जायेगे गाडी बंगला॥
छुट जाए माल खजाना॥
बुरे कर्मो दंड मिलेगा॥
भरना पड़े जुर्माना॥
सातो janam kaa saat to nibhaanaa padegaa..
हमें जाना पडेगा॥
अच्छे बुरे की पदवी मिलेगी॥
हिस्सा खातिर होगी जंग॥
हंस मिल कर जब रहोगे सारे॥
खुशिया नाचेगी संग संग॥
उगाया है बाग़ तो सजाना पडेगा॥
हमें जाना पडेगा॥
मस्ती करेगे मदिरा लय में॥
मस्त नशा में डूबेगे॥
दोनों दिल की मन दस्ता को॥
हंस हंस करके लूटेगे॥
किस्मत में लिखे कर्म को॥
लिखाना पडेगा ॥ हमें जाना पडेगा॥

1 comment:

  1. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...