Saturday, June 26, 2010

तोता मैना..

तोता से बोली मैना, एक बात पूछती हूँ॥
सच सच जबाब देना जो बात पूछती हूँ॥
भारत की महगाई तो आसमान छू रही है॥
प्यारे गरीब जनता को हानि हो रही है॥
तोता बेचारा बोला खोदो न जख्मे घाव को॥
वेदना हमारी अब प्रबल हो रही है॥
मैना जब पीछे पद गयी तोते ने हार मानी॥
सुनाने लगा मैना को अचरज भरी कहानी॥
भ्रष्टा चार का अत्याचार बढ़ गया चारो ओउर॥
भूखे प्यासे लोग है चोरी करत किशोर॥
चोरी करत किशोर कितने ज़िंदा मारे जाते॥
कितने इन्साफ के खाती गली गली चिल्लाते॥
जब तक अंत न होगा भ्रष्टाचार की लय॥
तब तक भारत में भीषण होगी प्रलय॥
तभी प्रभू आयेगे भारत को बचायेगे॥
मेरी प्रिये बातो को कही तुम न बिसार दोगे॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...