Monday, June 7, 2010

लो क सं घ र्ष !: नये मनुष्य, नये समाज के निर्माण की कार्यशाला: क्यूबा- अंतिम भाग


भीतर और बाहरः चैकस और मजबूत

जो चीज हमने 20वीं सदी के इतिहास में देखी और जिससे हम कुछ सीख सकते हैं वे शोषण और अत्याचारों के खिलाफ हुईं क्रान्तियाँ तो थीं ही, पर साथ ही ये भी कि क्रान्ति कर लेने के बाद उसे सँभालना, उसे वक्त के कीचड़ में धँसने से रोकना और भी बड़ी, और भी कठिन जिम्मेदारी होती है। यह जिम्मेदारी क्यूबा ने निभाई, वहाँ के लोगों ने और करिश्माई क्रान्तिकारी नेताओं ने निभाई। इंकलाब को नाकाम करने वाली ताकतों को खदेड़ना और बाकी रहे लोगों के साथ उत्पादन के समाजवादी ढाँचे का निर्माण करना, लोगों के बीच संपत्ति के सामूहिक सामाजिक स्वामित्व की समझदारी पैदा करना और इस रास्ते पर चलते हुए भी दुनिया की रफ्तार के साथ पीछे न होना, अदब में, तहजीब में, विज्ञान में, नये-नये कारनामे अंजाम देना और इस सब को इंकलाब के दायरे के भीतर इस तरह समेटना कि न किसी को दम घुटता महसूस हो और साथ ही इंकलाब का दायरा भी बगैर शोरगुल के अपना कद बढ़ाता जाए-ये सब क्यूबा ने खुद सीखा और दुनिया में इंकलाब की ख्वाहिश रखने वालों को सिखाया।
यह सब तो लम्बी तैयारी वाले रोज-रोज, इंच-इंच बढ़ने वाले काम हैं लेकिन लोगों की ऐसी हर कोशिश को नाकाम करने के लिए जो ताकतें सक्रिय हैं, उनसे निपटना, अंदर और बाहर व्यूह रचना कर पूँजीवाद और साम्राज्यवाद के जबड़ों से इंकलाब को बचाना भी बेहद मुश्किल काम था। लोगों को लगता है कि जब तक सोवियत संघ था तब तक क्यूबा को कोई समस्या नहीं थी। यह सच नहीं है। यह रास्ता कभी आसान नहीं था। जब सोवियत संघ था तब भी देश के भीतर की आबादी को समाजवादी उत्पादन पद्धति में ढालने के प्रयास बरसों की मेहनत और चींटी की चाल ही साबित होते थे। इसके बावजूद नये-नये कल्पनाशील कार्यक्रमों के जरिये लोगों को इस दिशा में आगे बढ़ाना और एक गौरव भाव का विकास करते हुए बाकी दुनिया को रास्ता दिखाना इंकलाब के बाद का एक जरूरी काम था जिसे क्यूबा ने कर दिखाया ।

जिंदगी के बारे में नजरिया बदल गयाः मारक्वेज

हमारे वक्त के एक महान रचनाकार और नोबल से सम्मानित गाब्रिएल गार्सिया मारक्वेज उर्फ गाबो का मानना है कि 1958 के पहले तक वे मनोरंजन पूर्ण लेखन करते थे, व्यंग्यात्मक राजनीतिक लेखन भी करते थे लेकिन 1959 की 1 जनवरी को क्यूबा में जो क्रांति हुई, उसने जिंदगी के बारे में उनका नजरिया बदल दिया। क्यूबा के इंकलाब ने ऐसा सिर्फ गाबो की जिदगी में ही नहीं किया था, बल्कि लैटिन अमेरिका की पूरी आबादी ही जिंदगी, आज़ादी और इंकलाब के ऐसे सुरूर में आ गई थी जो सुरूर आज तक फीका नहीं पड़ सका। उसके बाद से तो खैर सारी दुनिया के ही वे सारे लोग क्यूबा, फिदेल और चे के प्यार की गिरफ्त में पड़ते रहे जिन्हें इंसानियत और न्याय से प्यार है।
बहरहाल तो हुआ यूँ कि पूँजीवादी मुल्कों की प्रेस और मीडिया क्यूबा की क्रान्ति को बदनाम करने की काफी कोशिश कर रहे थे। एक रोज़ कोलंबिया में रह रहे और वहाँ के अखबार से अपनी रोजी-रोटी कमा रहे गाबो से क्यूबा का एक प्रतिनिधि आकर मिला और उसने गाबो को क्यूबा आने, वहाँ की न्याय व अन्य व्यवस्थाएँ देखने का आमंत्रण दिया। क्यूबा की आजादी, वहाँ के लोगों की मासूमियत, ईमानदारी और अपने इंकलाब के लिए सम्मान देखकर गाबो ताजिंदगी क्यूबा के प्यार में रच बस गए। इसके कुछ ही महीनों बाद उन्हें क्यूबा की क्रान्तिकारी सरकार द्वारा बनाई गई समाचार एजेंसी ’प्रेन्सा लेटिना’ में काम करने का मौका मिला। बाद में गाबो को प्रेन्सा लेटिना का प्रतिनिधि बनाकर न्यूयाॅर्क भी भेजा गया। धीरे-धीरे गाबो और फिदेल की दोस्ती भी बढ़ती गई। दरअसल जब मारक्वेज ने 1970 में ’ दि स्टोरी आॅफ अ शिप रेक्ड’ लिखी थी तो उसमें एवेन्चुरा नामक जहाज की गति की गणना में कुछ गलती थी, जिसकी तरफ सबसे पहले मारक्वेज का
ध्यान फिदेल ने ही खींचा था। तब से हमेशा मारक्वेज अपनी किताब छपने के पहले पांडुलिपि फिदेल कास्त्रो को पढ़ाते हैं, और सारी दुनिया में वे लैटिन अमेरिका की शोषण से आजादी, अस्मिता और कोलंबिया व अन्य लैटिन अमेरिकी देशों में संघर्षरत क्रान्तिकारियों की ओर से मध्यस्थ्ता करते हैं, उनकी माँगों को दुनिया के सामने लाते हैं।

चे के शब्दों में फिदेल

क्यूबा की क्रान्ति के सबसे अहम, सबसे अद्भुत और भूकंपकारी तत्व का नाम है फिदेल कास्त्रो। फिदेल के व्यक्तित्व की यह खासियत है कि वह जिस भी आंदोलन में भागीदारी करेगा, उसका नेतृत्व करेगा। उसके अंदर महान नेतृत्व के गुण हैं और इनके साथ साफगोई, ताकत, और साहस के साथ उसकी लोगों की इच्छा को पहचानने की अद्वितीय क्षमता ने उसे इतिहास में ये सम्मानजनक जगह दिलाई है। भविष्य में उसका असीमित विश्वास और उसे अपने साथियों से ज्यादा साफ और दूर तक समझ कर उससे दो कदम आगे का फैसला ले सकने की उसकी क्षमताओं ने, उसकी सांगठनिक योग्यता और कमजोर करने वाले भेदों का विरोध करने की उसकी ताकत ने, लोगों के लिए उसके बेतहाशा प्यार ने और जन कार्रवाई का रुख तय कर सकने की उसकी क्षमता ने क्यूबा की क्रान्ति का सबसे अहम किरदार बनाया है।

-विनीत तिवारी
मोबाइल : 09893192740

(समाप्त)

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...