Sunday, June 20, 2010

स्लिम भाई भुत कमाल के हो

जनाब स्लिम भाई आपकी हिम्मत कुवत को में दाद देता हूँ आपने जिस तरह से स्वदेश के नाम पर देश को एक सूत्र में पिरोने और पिछड़े पीड़ितों को इन्साफ दिलाने के लियें कोशिशें तेज़ की हे उससे हो सकता हे राजनेता जो केवल और केवल वोटों को ही अपनी दुनिया समझते हे उनके पेट में दर्द होना वाजिब हे यकीन यह अपना हिन्दुस्तान हे यहाँ कुछ गिनती के क्न्सुरे हें तो अधिकतम प्र्यारे प्यारे भाई भी हे जिनके सहारे हम और आप अपनी दुनिया में खिल खिला रहे हे । अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

2 comments:

  1. बेहद रोचक जानकारी है

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...