Monday, June 14, 2010

भोपाल गैस त्रासदी


...तो अब मुंह खोलेंगे अर्जुन सिंह

विजय कुमार झा
न्यूज़ एडिटर, भास्कर डॉट कॉम
भोपाल गैस त्रासदी के पीडि़तों के पक्ष में हर ओर से उठ रही आवाज के मद्देनजर अब प्रधानमंत्री को भी बोलना पड़ा है
। उन्‍होंने मंत्रियों के समूह से दस दिन में रिपोर्ट देने के लिए कहा है। वह इस रिपोर्ट को जल्‍द ही कैबिनेट में भी विचार
के लिए रखे जाने की बात कह रहे हैं। मंत्रियों के समूह को यह पता भी लगाना है कि भोपाल गैस कांड का मुख्‍य
अभियुक्‍त वारेन एंडरसन कैसे देश से भागने में कामयाब रहा। इसका जवाब अर्जुन सिंह को पता है। पर वह कह रहे हैं
कि सही समय पर मुंह खोलेंगे। तो क्‍या दस दिन में वह समय आने वाला है? या अर्जुन के मुंह खोले बिना मंत्रियों का
समूह 'सच' सामने लाने वाला है। भोपाल गैस कांड का मुद्दा फिलहाल अदालती फैसला आने के बाद गरम हुआ है।
हर ओर से दो बातों के विरोध में ही सुर उठ रहे हैं। एक तो, हजारों मौतों के जिम्‍मेदार लोगों को महज दो साल की सजा
और उसमें भी तुरंत जमानत मिल जाने के विरोध में है। और, दूसरा यह कि मुख्‍य अभियुक्‍त वारेन एंडरसन को कांड
के तुरंत बाद सरकार ने भगा दिया और फिर उसे भारत नहीं लाया जा सका। जब एंडरसन अमेरिका भागा था,
तब मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री वही थे। उनकी जानकारी के बिना एंडरसन नहीं भाग सकता था। अर्जुन ईमानदारी से सच
बता दें तो मंत्रियों को मशक्‍कत करने की जरूरत ही नहीं रह जाएगी। भोपाल गैस त्रासदी के पीडि़त 25 साल से अपनी
लड़ाई अकेले लड़ते आ रहे हैं। पर 7 जून को ट्रायल कोर्ट का फैसला आने के बाद सब अपने-अपने तरीके से उनकी
लड़ाई में शामिल होते दिखना चाहते हैं। लगता नहीं कि प्रधानमंत्री का ताजा निर्देश का मकसद भी इससे कुछ अलग है

2 comments:

  1. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  2. काफी सराहनीय प्रयास है बधाई हो..हिंदी के प्रसार में योगदान देते रहें !

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...