Skip to main content

राजा ने नौकरी की, वेतन लिया एक रुपया

राजेंद्र ठाकुर/पवन


अर्की (सोलन).king rajendra singh अर्की के राजा राजेंद्र सिंह का सोमवार देर शाम आईजीएमसी शिमला में निधन हो गया। वह 82 वर्ष के थे। उनके निधन के साथ ही अर्की रियासत में रजवाड़ा शाही की अंतिम कड़ी भी इतिहास बन गई है। उनके निधन से अर्की में शोक की लहर है। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को अर्की राजमहल के पास किया गया।

राजा राजेंद्र सिंह जितने अपनी प्रजा के प्यारे थे, आजादी के बाद केंद्र सरकार के भी वे उतने ही विश्वासपात्र थे। जब रियासतों का विलीनीकरण और प्रीवी पर्स खत्म हो जाने से अधिकांश राजा या तो शोक में डूबे थे या अकड़ से उबर नहीं पाए थे, तब अर्की राज्य के इस अंतिम राजा ने देश भक्ति का परिचय दिया। तत्कालीन केंद्रीय गृहमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने भी उन पर खूब भरोसा किया। 1962 में भारत पाक युद्ध के दौरान केंद्र सरकार ने उन्हें हिमाचल की आंतरिक सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी थी। केंद्रीय गृह मंत्री लाल बहादुर शास्त्री के निर्देश पर उन्होंने 6 दिसंबर 1962 को हिमाचल होमगार्ड की स्थापना की।

शास्त्री जी ने उन्हें हिमाचल होमगार्ड का कमांडेंट जनरल और सिविल डिफेंस का डायरेक्टर बनाया। उनका पद सेना के मेजर जनरल, पुलिस के आईजी के समकक्ष था। होमगार्ड के इस पद पर उन्होंने निशुल्क सेवा दी। वेतन के नाम पर वे मात्र एक रुपया लेते थे। उन्होंने 6 दिसंबर 1962 से 28 फरवरी 1986 तक इस पद पर कार्य किया। होमगार्ड को मजबूत करने के लिए उन्होंने न सिर्फ अपनी जेब से पूंजी लगाई वरन अपने महल के अस्त्र—शस्त्र भी दान कर दिए थे। 82 वर्षीय राजेंद्र सिंह पिछले करीब एक दशक से निजी जीवन जी रहे थे।

३11 किलोमीटर में फैली थी रियासत

राजा राजेंद्र सिंह की बाघल रियासत 311 किलोमीटर क्षेत्र में फैली थी। अर्की के आसपास के करीब 457 गांव शामिल थे। इसकी राजधानी अर्की रही। 1901 में बाघल रियासत की जनसंख्या 25,720 थी।

स्वेच्छा से छोड़ा राज

देश की स्वतंत्रता के बाद जब तत्कालीन गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को रिसासतों के विलय के लिए भारी मशक्कत करनी पड़ी, लेकिन राजेंद्र सिंह ने देश भक्ति दिखाते हुए स्वेच्छा से प्रजातंत्र में विश्वास करते हुए राजा का पद छोड़

तीन बार विधायक रहे

करीब एक दशक तक राजेंद्र सिंह ने तत्कालीन सुन्नी विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। 1952 से 1962 तक तीन बार सुन्नी क्षेत्र से विधायक चुने गए। उस समय अर्की सुन्नी के तहत आता था।

वे थे बाघल के अंतिम राजा

राजेंद्र सिंह बाघल रियासत के अंतिम राजा थे। उनका जन्म 29 फरवरी, 1928 को हुआ था। उनके पिता का नाम सुरेंद्र सिंह था। 21 दिसंबर,1945 में 17 साल 10 माह की अल्पायु में उन्हें राजगद्दी प्राप्त हो गई थी। हालांकि 1946 में इनका राज्याभिषेक किया गया। इन्होंने करीब दो साल तक राज किया। उन्होंने लाहौर से बीए की डिग्री हासिल की थी।


राजा भोज की नगरी से यहां बसे थे पूर्वज

अर्की क्षेत्र के प्राकृतिक सौंदर्य से मोहित होकर ही बाघल रियासत के पूर्वज यहां बस गए थे। असल में वे राजा भोज की धारा (धार, मध्यप्रदेश) नगरी से आए थे। 1305 ई. में अलाऊद्दीन से उज्जैन के शासक के पराजित होने पर धारानगरी से पलायन कर हिमालय के इस क्षेत्र में सिरमौर से होते हुए पहुंचे। बंदोबस्त रिपोर्ट के अनुसार यह चार भाई धारानगरी से आए थे। इनमें अजय देव, विजय देव, मदन देव और चौथे भाई का नाम धारावाला देव था। यह पनवार वंश के थे, जो बाद में परमार वंशी कहलाए।

यह भाई बद्रीनाथ और ज्वालाजी की यात्रा पर निकले थे लेकिन अर्की की रमणीयता में खोकर यहीं बस गए। सर्वप्रथम राणा अजय देव ने अर्की क्षेत्र से मावी लोगों को भज्जी की ओर धकेल दिया। दूसरा भाई बघाट और तीसरा भाई सिरमौर का राजा बना। चौथा भाई समीपवर्ती राजा से युद्ध में मारा गया, जिसकी स्मृति में सेरीघाट (कुनिहार) में मंदिर बना है। इसे धारावाला देव कहा जाता है। राजा के पास धारा नगरी से आया नगाड़ा, खाण्डा, छड़ी और लक्ष्मी नारायण की मूर्ति है।

Comments

  1. महत्वपूर्ण जानकारी के लिए आभार........

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।