Saturday, June 5, 2010

लो क सं घ र्ष !: सपने देखना और सपने बुनना.......


सपने देखना और सपने बुनना , हमे भी आता है प्रजापति ..
सिर्फ तुम्हे नहीं .
फूटपाथ पर
होने का अर्थ
ये नहीं है न्याय कई देवता ,
की हमे सपने नही आते .
सपने देखना सिर्फ तुम्हारी मिलकियत नहीं .
तिजोरियो के स्वामी .
हमे भी हासिल है हक़ .
की सपने देखू
बेहतर दुनिया और बेहतर मनुष्य होने के सपने .
उजाडो तुम बार -बार /उजाडो मेरे सपनों के
घोश्लो को
कभी प्रदूषण निवारण के नाम पर
कभी सहर की खूबसूरती के नाम पर .
कभी न्याय के देवताओ के हुक्म पर
कभी विकाश की गंगा बहाने के बहाने
सत्ता ,शासन और तिजोरी का मिलन पर्व
भले ही मनाया जा रहा हो पूरी दुनिया में .
भले ही दुनिया का सबसे बड़ा हैवान .
सभ्यताओ का पाठ पढ़ा रहा हो हमे .
हमे सपने देखने और सपने बुनने से
नहीं रोक सकता वो
कयू की मेरा सपना सिर्फ अपना सपना नहीं है .
पूरी कायनात का है मेरा सपना
मनुष्यता की हिफाज़त में ...........

-सुनील दत्ता

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...