Saturday, May 29, 2010


हम दिल में बसा के रखे बैठे थे॥

तुम दिल को हमारे तोड़ गए॥

मुझे अकेले छोड़ गए॥

जीवन की लय को मोड़ गए॥

अफसोशहमें है अपने पर॥

किस कारण प्रीतम रूठ गए॥

फूले के थाली में जेवना लगायव॥

मन की उमंगें से पंखी दोलायव॥

क्या स्वाद नहीं था भोजन में॥

जो परसी थाली को छोड़ गए॥

हम दिल में बसा के रखे बैठे थे॥
तुम दिल को हमारे तोड़ गए॥
मुझे अकेले छोड़ गए॥
जीवन की लय को मोड़ गए॥

लाची लवांगी के बीरा लगायव॥

केवडा जल खुश्बो को मिलायव॥

क्या कडुवा लगा था पान॥

जो मुह से उसको थूक चले॥

हम दिल में बसा के रखे बैठे थे॥
तुम दिल को हमारे तोड़ गए॥
मुझे अकेले छोड़ गए॥
जीवन की लय को मोड़ गए॥

चुन-चुन फुलवा से सेजिया सजायव॥

चारो तरफ से पर्दा लगायव॥

क्या खतमत आया बिस्तर पे॥

जो नीचे सोने पर मजबूर हुए॥

हम दिल में बसा के रखे बैठे थे॥
तुम दिल को हमारे तोड़ गए॥
मुझे अकेले छोड़ गए॥
जीवन की लय को मोड़ गए॥




No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...