Monday, April 12, 2010

देशी बाप विलायती लड़का...

शहरी बेटा जब बूढ़े बाप से मिला ,तो एक बार तो ममता कौंध गयी॥ लेकिन उस बुड्ढ़े बाप स्थिति देख कर शहरी बेटा॥ वापस शहर में जाके बस जाता है .और वापस न आने की कसम खाता है। वह सिर्फ अपनी बीबी और बच्चो की परवरिस करना ही अपना महान कर्त्तव्य समझता है॥ क्यों की शहर में उसकी सोशायती हाई फाई हो गयी थी॥ पुरानी गरीबी की कहानी भूल गया था की माँ बाप कैसे कैसे उसे पाले थे॥ बाप तो गरीब था ही लेकिन किसी तरह १२ वी बढ़ा दिया था उसके बार वह शहर आ गया था। और छोटी मोती नौकरी करने लगा था। साथ में पढाई पर भी ध्यान दिया था। और पढ़ करके के कुछ हद तक कामयाब हो गया था। और मिया बीबी खुशहाल थे। कुछ दिनों के बाद उनके यहाँ एक बेटे का जन्म हुया॥ लेकिन यह दुर्भाग्य ही था की लड़का जन्म-जात अंधा था। इधर शहरी बाबू और उनकी बीबी बहुत परेशान॥ धीरे धीरे ये बात बुड्ढ़े बाप को पता चली तो वह शहर आ गया और बहू को देख कर बेटे से कहता की यार तूने तो किसी पारी से शादी कर रखा है। मेरी बहू तो बड़ी खूब सुरुआत है॥ उसके बात पालने पर पड़े पोते को देखता है। तो ख़ुशी से पालने की तरफ दौड़ कर पोते को बुड्ढा गोदी में उठा लेता है॥ लेकिन पोते की आँखे देख कर ख़ुशी गम में बदल जाती है॥ एक रात बुड्ढा अपने बेटे के घर पर ही सो रहा था की उसे सपना दिखाई दिया। की तुम अपने बेटे बहू पोते के साथ घर चलो वहा पर अपने कुलदेव की पूजा करो हवन करवाओ । तो तुम्हारे पोते को आँख वापस आ सकती है॥ बुड्ढा सब को लेकर्के गाँव चला जाता है। विधि विधान से पूजा संपन्न होने के कगार पर थी की एक ज्योति बच्चे पर पड़ती है ॥ तो उसकी आँखे खुल जाती है॥ महाल ख़ुशी में बदल जाता। फिर शहरी बाबू को एहसास होतिया है॥ की बाप तो बाप है॥ वह तो बेटे का दुःख देख नहीं सकता॥ फिर शहरी बाबू शहर में आके नौकरी करते है। लेकिन सब का विशेष दयां देते है॥

जहा पे भी जाओ ,दुआ लेके आओ॥
मुकद्दर का टाला कभी तो खुलेगा॥
सही आचरण से जब पथ पर चलोगे॥
तेरी मंजिल पर चाँद आके रूकेगा॥
मानव का जीवन तो जी करके देखो॥
तेरे दर पे मनाई का मेला लगेगा॥
मुह पे हंसी लेके बोलो तो बोली॥
तेरा तन पापो से वर्जित रहेगा॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...