Skip to main content

यास्मीन की कला में समाया कण्डोम

सतीश सिंह

यास्मीन एक तो मुस्लिम औरत हैं ऊपर से बिहार जैसे परंपरागत राज्य के पिछड़े हुए गांव में रहती हैं. लेकिन यास्मीन जो काम कर रही है वह तथाकथित आधुनिक और सभ्य समाज की भी किसी महिला के लिए शायद ही संभव हो. अपने मधुबनी कला के जरिए सेक्स शिक्षा का संदेश दे रही है. उनकी ही तर्ज पर मधुबनी की कुछ और महिला कलाकार कला को नयी परिभाषा दे रही हैं.

हमारे समाज में सेक्स को वर्जित माना जाता है और शारारिक जरुरतों की अवहेलना की जाती है। दरअसल जीवन को संपूर्णता में जीने की कोशिश कोई नहीं करना चाहता। यौन कार्यकलापों को अश्लीलता की श्रेणी में रखा जाता है। इसका मूल कारण है हमारी सभ्यता और संस्कृति, जो हमें उन्मुक्त एवं स्वछंद होने से रोकती है। इस पूरे कवायद में हम इतने शालीन हो जाते हैं कि कंडोम और अन्यान्य जरुरी ऐतिहातों को बरतना ही भूल जाते हैं। आज सेक्स से जुड़ी समस्याओं पर बात करने के लिए कोई तैयार नहीं है। इस संबध में सरकार द्वारा उठाये जा रहे कदम भी नाकाफी हैं। इसी अधूरे काम को करने का बीड़ा उठाया है बिहार की कुछ ग्रामीण महिला कलाकारों ने की जिसमें उत्तर बिहार की रहनेवाली यास्मीन भी शामिल हैं.

न तो वह शिक्षित है और न ही किसी नामचीन घराने से संबंध रखती है। फिर भी पारम्परिक खतवा कला में वह पारंगत है। अभी हाल ही में कोलकत्ता में उसकी कलाकृतियों की पर्दशनी गैर सरकारी संगठन "जुबान" की मदद से लगायी गई थी। जिसका शीर्षक था "यूज कंडोम" शीर्षक आपको चौंकाने वाला लग सकता है, पर यासमीन की पर्दशनी में पर्दशित कलाकृतियों में गर्भ निरोधक के प्रयोग तथा उसके फायदों को विभिन्न प्रतीकों और प्रतिबिम्बों के माध्यम से बहुत ही खूबसुरत तरीके से उकेरा गया था।

यास्मीन अपना काम सिल्क के कपड़ों पर एपलिक की मदद से करती है। उसने इन कपड़ों पर पुरुष और नारी को, हाथों में गर्भ निरोधक पकड़े हुए दर्षाया है, जो इस बात का प्रतीक है कि गर्भ निरोधक का प्रयोग हमारे लिए कितना जरुरी है। अपने दूसरे कोलोज में यासमीन ने गर्भ निरोधक को जीवन रक्षक रक्त के रुप में दिखाया है। यासमीन की चिंता की हद बहुत ही व्यापक है। वह अपनी कला के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या, महिलाओं पर घरों में हो रहे घरेलू हिंसा तथा गा्रमीण महिलाओं के पिछड़ेपन पर भी प्रकाश डालती है।

मधुबनी की पुष्पा कुमारी भी यासमीन के नक्शे-कदम पर चल रही है। उसने भी मिथिला चित्रकला में कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं लिया है और न ही स्कूली शिक्षा प्राप्त की है। बावजूद इसके वह मिथिला चित्रकला में दक्ष है। उसने अपनी दादी से इस कला को सिखा है। पुष्पा कुमारी के विषय मुख्यतः शराबी पति और दहेज समस्या से जुड़े हुए होते हैं, लेकिन इसके अलावा वह गाँवों में गर्भपात करवाने वाली दाईयों और झोलाछाप डॉक्टरों को भी अपना सब्जेक्ट बनाती है।

मिथिला चित्रकला की एक अन्य कलाकार शिवा कश्यप ने तो दस हाथों वाली माँ दुर्गा की परिभाषा ही बदल दी है। वह अपनी कलाकृति में माँ दुर्गा के दस हाथों को महिलाओं की जिम्मेवारी और लाचारी का प्रतीक मानती है। वह माँ दुर्गा के हाथों में शस्त्र की जगह बाल्टी, झाड़ू इत्यादि दिखाती है। अपने इन बिम्बों से वह कहना चाहती है कि माँ दुर्गा शक्ति की जगह दासी की प्रतीक हैं।

आजकल मिथिला चित्रकला की तरह सुजानी कला भी धीरे-धीरे देश में अपनी पहचान बना रही है। इस कला से जुड़ी हुई उत्तरी बिहार के ग्रामीण अंचल की रहने वाली कलावती देवी का केंद्रीय विषय एड्स है। अपनी कलाकृतियों के द्वारा वह एड्स से जुड़ी हुई भा्रंतियों एवं उसके रोकथाम के संबंध में जागरुकता फैलाने का काम कर रही है। दुपहिए वाहन ने किस तरह से गाँवों में क्रांति लाने का काम किया है। यह भी कलावती देवी की कला का हिस्सा बन चुका है।

सच कहा जाये तो महिला सशक्तीकरण के असली प्रतीक ये ग्रामीण महिला कलाकार ही हैं। हर तरह की सुविधाओं से वंचित होने के बाद भी उन्होंने दिखा दिया है कि हाशिए से बाहर निकल करके कैसे उड़ान भरने का गुर सीख जाता है। उन्होंने स्वंय तो समग्रता से जीवन को जिया ही है और साथ में समाज को भी समग्रता और संपूर्णता में जीने की सीख दी है।

आगे पढ़ें के आगे यहाँ

Comments

  1. it is necessary but ...
    http://vedquran.blogspot.com/2010/03/gayatri-mantra-is-great-but-how-know.html

    ReplyDelete

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

Popular posts from this blog

युवाओं में लोकप्रिय 'मस्तराम' पर बनेगी फिल्म, लेकिन नहीं होगी अश्लील

अखिलेश जायसवाल ‘मस्तराम’ नामक फिल्म बनाने जा रहे हैं। विगत सदी के मध्यकाल में ‘मस्तराम’ नामक काल्पनिक नाम से कोई व्यक्ति अश्लील किताबें लिखता था, जिन्हें उस दौर के अधिकांश कमसिन उम्र के लोग चोरी-छुपे पढ़ते थे। मध्यप्रदेश और राजस्थान तथा ग्रामीण महाराष्ट्र क्षेत्र में ‘भांग की पकौड़ी’ नामक अश्लील उपन्यास युवा लोगों में अत्यंत लोकप्रिय था। अध्यात्मवादी भारत में सेक्स विषय को प्रतिबंधित किया गया, इसलिए मस्तराम और भांग की पकौड़ी जैसी गैर वैज्ञानिक एवं नितांत घातक किताबें चोरी छुपे खूब पढ़ी गई हैं और 21वीं सदी में भी इस विषय को प्रतिबंधित ही रखा गया है तथा पाठ्यक्रम में कभी शामिल नहीं किया गया है, जिस कारण मनोवैज्ञानिक गुत्थियां कमसिन उम्र के अपने भूत रचती रही हैं। अखिलेश दावा कर रहे हैं कि वे मस्तराम की काल्पनिक आत्मकथा पर फिल्म रच रहे हैं और अश्लीलता से अपनी फिल्म को बचाए रखेंगे। कमसिन उम्र एक अलसभोर है, जिसमें अंधेरा ज्यादा और रोशनी कम होती है। आज इंटरनेट पर उपलब्ध अश्लील फिल्में कम वय के लोगों को जीवन के सत्य का एक अत्यंत काल्पनिक और फूहड़ स्वरूप उपलब्ध करा रही हैं। टेक्नोलॉजी ने अश्ली…

हीरों की चोरी

आमतौर पे जब भी ये बात होती है की अंग्रेजों ने किस सबसे कीमती हीरे या रत्न को अपने देश से चुराया है तो सबके ज़बान पे एक ही नाम होता है- कोहिनूर हीरा.जबकि कितने ही ऐसे हीरे और अनोखे रत्न हैं जो बेशकीमती हैं और जिन्हें विदेशी शाशकों और व्यापारी यहाँ से किसी न किसी तरह से ले जाने में सफल रहे.कितने तो ऐसे हीरे और रत्न हैं जो हमारे देश के विभिन्न मंदिरों से चुराए गए...इस पोस्ट में देखिये कुछ ऐसे दुर्लभ,अनोखे और अदभुत हीरे,जो हमारे देश में पाए गए लेकिन अब अलग अलग मुल्कों में हैं या फिर कहीं गुमनाम हो गए हैं.


कोहिनूर


कोहिनूर के बारे में किसे नहीं पता, हर भारतीय को शायद ये मालुम होगा की यह बहुमूल्य हीरा फिलहाल ब्रिटिश महारानी के ताज की शोभा बढ़ा रहा है.105 कैरट  का कोहिनूर एक दुर्लभ हीरा है और यह हीरा आंध्र प्रदेश के गोलकुंडा खान में मिला था.गोलकुंडा खान बहुत समय तक(जब तक ब्राजील में हीरों की खोज नहीं हुई थी)विश्व में हीरों का एक मात्र श्रोत था.कोहिनूर हीरा कई राजा महराजाओं के पास से होता हुआ अंततः महाराज रंजीत सिंह के पास पंहुचा.महराज रंजीत सिंह की मरते वक्त ये आखरी ईच्छा(उनके वसीयत में भी इस ब…

रूसो का विरोधाभास ......

रूसो को प्रजातंत्र का पिता माना जाता है ।
अन्य प्रबुद्ध चिन्तक जहाँ व्यक्ति के स्वतंत्रता की बात करते है , वही रूसो समुदाय के स्वतंत्रता की बात करता है ।
अपने ग्रन्थ सोशल कोंट्रेक्त में घोषित किया की सामान्य इच्छा ही प्रभु की इच्छा है ।
रूसो ने कहा की सभी लोग समान है क्योंकि सभी प्रकृति की संतान है ।
कई स्थलों पर रूसो ने सामान्य इच्छा की अवधारणा को स्पस्ट नही किया है ।
एक व्यक्ति भी इस सामान्य इच्छा का वाहक हो सकता है । अगर वह उत्कृष्ट इच्छा को अभिव्यक्त करने में सक्षम है ।
इसी स्थिति का लाभ फ्रांस में जैकोवियन नेता रोस्पियर ने उठाया ।