Wednesday, March 3, 2010

जीवन को छोड़ जाए हम॥

गम का गागर लिए॥
आंसुओ से भरा॥
नाथ तुम ही बताओ॥
कहा जाए हम ॥
मुर्खता है हमारी॥
किया हमसे छल॥
पल पल आंसू ही पीते॥
क्या मर जाए हम॥
भूल मुझसे हुयी॥
गम को झेला भी मै॥
कुरता इतनी करनी ॥
नहीं चाहिए॥
क्या तपोवन में जाके॥
जल जाए हम॥
क्यों विधाता बने हो॥
क्षीर सागर में जा॥
अपनी भक्ति पे एतवार॥
हमको भी है॥
क्या जहर खा के॥
जीवन को छोड़ जाए हम॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...