Friday, January 29, 2010

'दीप '


रातो को सोते से जागी थी
जैसे में अकेली वैसे आसमा पे वो चाँद अकेला सा
ताकता मेरी ओर सा ..निहिर सा
कि कोई ऐसी ही तन्हायियो में दे साथ उसका
गौर से देखा तो ......
चाँद को खुद से बाते करते हुए पाया
वो बोला ...'किस कि यादो का आज तेरे आस पास ये रेला '
मै क्या कहती ?
चुप हो गयी ....लिए आँखों में नीर की धारा..
मै चाँद से बोली ....
'देख लौट आया मेरा प्रीत मुझे देख अकेला '
प्यार का समंदर
विश्वास का प्रतीक है वो
दे का मुझे सुख की अनुभूति
खुद को किया अश्रुओ के हवाले
मुस्कान सौगात बन के मेरे लबो पे रहे
खुदा से दुआ कर वो फिर
मेरे सुने जीवन में बन कर आया आशा की किरण
बीती स्मृतियों के 'दीप ' जला गया वो ....
(..कृति ...अंजु...(अनु )...)

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...