Monday, January 18, 2010

खुद चल के समुन्दर आज॥



खुद चल के समुन्दर आज॥
नदी के पास आया है॥
अपने मन की बात ॥
सलिल सरिता से बताया है॥
कलरव उसके चंचल हो गए॥
कल कल करके बोली॥
शर्मीली कदमो से थम कर॥
प्रेम मगन हो डोली॥
mere aangan me aake॥
saagar muskaayaa है॥
mai poochh sakoo dukh vipdaa kyaa है॥
kyaa koi achambhee बात padi॥
चंचल मन to लग रहे है॥
मोतियों की मानिक जड़ी॥
लगता समय बदल रहा है॥
मन मेरा हर्षाया है॥

1 comment:

  1. हर शब्द बोलता हुआ और दिल को गहराई तक छूता हुआ
    काश ऐसा हो की सागर चल के नदी के पास आ पाता!!

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...