Sunday, January 10, 2010

हिन्दुस्तान का एक दर्द यह भी --सबको सिर्फ अपनी पड़ीं है ---


इस खबर को पढ़िए , जनता बड़े ढंग से गुस्सा है रेलवे पर| बस सबको अपनी -अपनी पड़ीं है , किसी को युक्ति-युक्तपूर्ण ढंग से नहीं सोचना है | अखवार वाले समाज के ठेकेदार बने हुए हैं पर दूर की , यथार्थ सोच कहाँ है ? तर्क वास्तविकता देखे जाने सोचे बिना बस अपने स्वार्थ के लिए हुंकार भरदेना, जवाब देही मांगना ( जहां आसानी सेचलती है, गुंडों माफियाओं, छेड़खानी करने वालों के लिए कोइ नहीं भरता )| क्या ये सब नहीं सोचा जा सकता किजब प्रकृति के इतने कठोर मौसम कोहरे ठण्ड के कारण जहां कुछ दिखाई नहीं देता, सारे बेतार के तार , मोबाइल,रेडियो,इन्टरनेट लाइनों का सब कुछ ठप है तो अकेली रलवे क्या करे कोइ क्या करे , आखिर काम तो मनुष्य ही करता है |

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...