Sunday, January 10, 2010

पर्यावरण में बदलाव ..................

पर्यावरण में बदलाव ..................

थिरकती धरती का सिहासन

जब - जब डोला
नयी सभ्यता ने तब - तब
नव जीवन पाया !
बलखाती हरियाली ने तब - तब
नव पोध उपजाई !
थिरकती धरती का सिहासन
जब - जब डोला ...........
नयी सभ्यता ने तब - तब
नव जीवन पाया !
लेकिन अब !!!!!!!!!!!
पर्यावरण में होते बदलाव से .....
जब थरथराती है धरती
नवजीवन के बदले में वो
विध्वंस मचा जाती है !
लहराती हरियाली अब पल में
नष्ट तभी हो जाती है !
ऊंची -ऊंची इमारतो से
गाँव कही खो जाते है !
छोटे होते आंगन से अब
खेत कही खो जाते है !
युवा होते जीवन से अब
बचपन कही खो जाता है !
जब भी थरथराती है धरती
उधल - पुथल हो जाती है
अब आओ साथियों ...........
वक्त की पुकार सुने
बदलाव की हवा चले
थरथर करती धरती अब
थिरकन को मजबूर करे !
यही प्रण ले कर अब हमसब
धरती का श्रृंगआर करे !
डॉ.मंजू चौधरी
manndagar@yahoo.com

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...