Wednesday, December 2, 2009

पुजारिन

चार चाँद लगे उस लेखक के लेखनी को। जिसने चकोर बन कर ढूढा मेरी निशानी। हर साजो से सजा कर समेटा अपनी बाहों में। मेरी सूरत को गढ़ के लिखा है क्या कहानी॥ उस निशानी को देख लिया । जिसे आप तक मैंने देखा नही॥ आती है रचना रचनी पल भर में लिख दिया सही॥ हर अंग की बाखूबी निहारा अलंकृत कर दी भेष भूषा। आँखों में सिर्फ़ मैकोई नही था दूजा॥ अब मै भी करनी लगी हूँ उसकी पूजा॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...