Wednesday, December 2, 2009

रोवायी आवय सजना..

जब से मेला मा आँख लड़ी॥
आवय न अवघायी॥
रोवायी आवय सजना॥
दस दाई जब तक न देखी॥
आवय नही हंसायी॥
बोलिया मा दोहरे जादू घोला॥
बनके लाग कलायी॥
कब होए हमसे मिलायी..
रोवायी आवय सजना॥
जब तक मुह से मधुर न बोला॥
कय डाई उपवास॥
जब तू हमारी मांग सजौवेया॥
लिखा जायी इतिहास॥
अब ढील करा आपन ठिठाई ॥
रोवायी आवय सजना॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...