Wednesday, December 2, 2009

माई मस्त्रीन बन के बैठी..

नाक्ष्त्रावली पैदा भा बेटवा॥
बाप बना प्रधान॥
माई मास्ट्रें बन के बैठी॥
अब जल्दी बनिहय धनवान॥
चाचा का चौराहे पे॥
राशन कय दूकान हहाय॥
कर्मठ गठिगा परिवारं कय॥
अब टुटही पनही नही देखात॥
आजी के बतिया मा ऊ दम नाही॥
बात से काटे कैची॥
माई मस्त्रैन बन के बैठी॥
बुआ बिलायत पढे जात बा॥
चाहि कराय जब शूटिंग॥
अबकी प्रधानी मा पता चले जब॥
जनता करिहै हूटिंग॥
बंधी दुआरे चोक्दत बाटे॥
घुघुर वाली भैसी॥
माई मास्त्रीन बन बैठी॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...