Monday, December 14, 2009

हार्दिक क्षमा याचना

सहारनपुर वासियों से हार्दिक क्षमा याचना

 

सहारनपुर :  १३ दिसंबर :   होटल स्काइलार्क, अंबाला रोड सहारनपुर को सभागार बुकिंग हेतु अग्रिम भुगतान करने के बावजूद अंतिम समय में पूर्व निश्चित सभागार देने से मना कर देने के कारण द सहारनपुर डॉट कॉम का लोकार्पण कार्यक्रम आपात्कालीन ढंग से रामतीर्थ केन्द्र, अंबाला रोड में अंतरित किया गया। कार्यक्रम के आयोजकों द्वारा आपात्कालीन ढंग से फोन और एस.एम.एस. द्वारा सैंकड़ों अभ्यागतों को स्थान परिवर्तन की सूचना दी गईहोटल के बाहर सहायक खड़े किये गये जो आमंत्रितों को स्थान परिवर्तन की जानकारी दे सकें।  जनरेटर व जलपान की व्यवस्था के जैसे - तैसे करके वैकल्पिक प्रबंध किये गये।  नगर के सैंकड़ों बुद्धिजीवी, पत्रकार, साहित्यकार, कलाकार, उद्यमी एवं व्यापारी जिनको ससम्मान आमंत्रित किया गया था, होटल स्काइलार्क, अंबाला रोड सहारनपुर पहुंचे और वहां कार्यक्रम होता न देख कर किंकर्तव्यविमूढ़ता की स्थिति में वापिस लौट गये।  होटल स्काइलार्क के प्रबंधकों ने वहां पहुंचने वाले अतिथियों को स्थान परिवर्तन की सूचना देने में अपनी ओर से कोई भी सहयोग देने की भी कोशिश नहीं की।    

 

सुशान्त सिंहल ने वैष्णवी नृत्यालय की सम्मानित नृत्य प्रशिक्षिका रंजना नैब, सहारनपुर की गौरव, फाल्गुनी भारद्वाज , और  नृत्यांगना श्री से सम्मानित श्रेया सिंहल व अन्य कलाकारों से भी क्षमा याचना की है कि लोकार्पण कार्यक्रम हेतु पन्द्रह दिन से जिन नृत्य प्रस्तुतियों को तैयार करने के लिये ये सहारनपुर के प्रतिष्ठित बाल कलाकार दिन-रात एक किये हुए थे, उन नृत्य प्रस्तुतियों के कार्यक्रम भी कार्यक्रम स्थल में परिवर्तन के कारण रद्द करने पड़े। रंजना नैब, संदीप शर्मा व सुनीत गुप्ता (अभिभावकगण)  को प्रस्तुतियों को निरस्त किये जाने से जो मानसिक आघात पहुंचा, उसके लिये द सहारनपुर डॉट कॉम क्षमा-ज्ञापन करता है। उल्लेखनीय है कि स्वामी रामतीर्थ केन्द्र के सभागार में नृत्य कार्यक्रमों की परंपरा नहीं है अतः इस संस्थान की भावनाओं का सम्मान करते हुए फाल्गुनी भारद्वाज और श्रेया सिंहल जैसे बाल - कलाकारों की प्रस्तुतियाँ निरस्त कर दी गई थीं जो सहारनपुर की अंकुरित हो रही प्रतिभाओं का परिचय देने के लिये द सहारनपुर डॉट कॉम द्वारा विशेष अनुरोध करके वैष्णवी नृत्यालय से आमंत्रित की गई थीं।

द सहारनपुर डॉट कॉम के संपादक सुशान्त सिंहल ने पत्रकारों से बात करते हुए जहां एक ओर रामतीर्थ केन्द्र के सम्मान्य संस्थापक आचार्य डा. केदारनाथ प्रभाकर के प्रति उनके इस अभूतपूर्व सहयोग के लिये कृतज्ञता व्यक्त की, वहीं दूसरी ओर सभी ऐसे आमंत्रित महानुभावों से क्षमा - याचना की है जो कार्यक्रम स्थल में अंतिम समय में किये गये इस परिवर्तन की जानकारी न मिल पाने के कारण वापिस लौटने को विवश हुए।  उन्होंने इस बात के लिये सहारनपुर के सभी पत्रकार बंधुओं का भी आभार व्यक्त किया कि उन्होंने अपनी ओर से भी कार्यक्रम स्थल में किये गये इस परिवर्तन की सूचना को फैलाने में सहयोग दिया।

 

द सहारनपुर डॉट कॉम के संपादक सुशान्त सिंहल ने होटल स्काइलार्क की इस लालची प्रवृत्ति की आलोचना की और कहा कि एक बड़ी बुकिंग के लालच में पहले से ही बुक किये गये सभागार को किसी अन्य ग्राहक को दे देना और आयोजकों को इसकी सूचना देने का भी कष्ट न करना अस्वस्थ मानसिकता है और व्यापार की सामान्य आचार-संहिता के खिलाफ है। ऐसा करके यह प्रतिष्ठान सहारनपुर के सभी होटलों के प्रति एक अविश्वास की भावना उत्पन्न कर रहा है, अपनी और सहारनपुर के अन्य होटल व्यवसायियों की छवि को भी धूमिल कर रहा है ।  अब सभी ग्राहक होटल स्काइलार्क में अपने कार्यक्रमों हेतु बुकिंग कराने से पहले सौ बार सोचेंगे कि कहीं ऐसा न हो, ऐन कार्यक्रम के समय उनको कह दिया जाये कि आपके द्वारा बुक किया गया सभागार तो  ज्यादा धन देने वाले किसी  बड़े ग्राहक को दे दिया गया है, अब आप चाहो तो इस छोटे से बेसमेंट में अपना कार्यक्रम आयोजित कर लीजिये।  द सहारनपुर डॉट कॉम का यह सौभाग्य रहा कि अंतिम क्षणों में भी रामतीर्थ केन्द्र का प्रतिष्ठित एवं सम्मानित सभागार आयोजन हेतु उपलब्ध हो गया और यह कार्यक्रम नगर के सभी पत्रकार बंधुओं के अनन्य सहयोग के कारण पूरी भव्यता के साथ संपन्न हो गया, वरना सहारनपुर के विकास के लक्ष्य को लेकर चल रहे द सहारनपुर डॉट कॉम के लोकार्पण कार्यक्रम में विघ्न डालने का कलंक होटल स्काइलार्क के माथे लगता और कार्यक्रम हेतु पधारने वाले अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के अतिथियों के सम्मुख सहारनपुर की छवि तार-तार हो जाती।

 

 

Editor
The Saharanpur Dot Com

w |  www.thesaharanpur.com

E   |   info@thesaharanpur.com

M | +91 9837014781

 

 

 

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...