Wednesday, December 9, 2009

बलामुवा काहे गया परदेश॥

बलामुवा काहे गया परदेश॥
बलामुवा काहे गया परदेश॥
बैरी कोयलिया ताना मारे॥
छोड़ के आपन देश ॥
बलामुवा काहे गया परदेश॥
पशु पक्षी भी हमें चिढावे॥
सासु ननदिया आँख दिखावे॥
इनके बोली तिताऊ लागे॥
ससुरा बदले भेष ॥
बलामुवा काहे गया परदेश॥
उठ भिनौखा बर्तन धोई॥
सपरय नाही काम॥
यह चिक चिक मा बूढी हो गइली॥
कब ई कटे कलेश ॥ बलामुवा काहे गया परदेश॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...