Monday, November 2, 2009

जबाब दो ........


जबाब दो .........

ओ दुनिया वालो .....ओ दुनिया वालो
छोटे से सवाल का ,जुल्म के फैले जाल का ,
इंशा के इस हाल का ,जबाब दो !ओ दुनिया वालो
हाथो में हथियार क्यो -देशो में दिवार क्यो ?
टुकडो में संसार क्यो ,जबाब दो !ओ दुनिया वालो
मुल्को में तकरार क्यो -जलता ये संसार क्यो
हर मजहब बीमार क्यो ,जबाब दो !ओ दुनिया वालो
प्यार की बोली भूल गए सब -चलन चला है गोली का
हर दमन पर लगा हुआ है -रंग खून की होली का
कोई मुझको यह तो बता दे -इतना अत्त्याचार क्यो
नही दिलो में प्यार क्यो ,जबाब दो !दुनिया वालो
बारूदों की बरसातो घायल रोतीहै
गोली चाहे चले जन्हा पर -माँ की ममता रोती है
उजड़ गए उन सभी घरो की -कहा गई आबादिया !
बच्चो की किल्कारिया ,जबाब दो ..ओ ...............
बहन खोजती है भाई को -माँ से बिछुड़ा लाल है
सूनी मांग पर सिसकी लगाती -दुल्हन का यह हाल है
शहर बना है मरघट जैसा ,हर बस्ती बेहाल है !!
बरिष्ठ पत्रकार कवि" श्री दयाराम अटल "के प्रथम काव्य संग्रह "जबाब दो "से साभार ...............

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...