Thursday, November 26, 2009

कसाब पर अब तक 31 करोड़ फूंके


मुंबई. मुंबई हमले के दौरान पकड़ा गया आतंकी अजमल कसाब देश का सबसे महंगा कैदी सिद्ध हो रहा है। आर्थर रोड जेल में उसकी सुरक्षा पर हर रोज करीब 85 लाख रुपए खर्च हो रहे हैं जबकि पहले अनुमान पचास लाख खर्च होने का था। एक साल में सरकार ने इस आंतकवादी की सुरक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य पर 31 करोड़ रुपए खर्च कर चुकी है। आज से ठीक एक साल पहले 26 नवंबर को 21 साल के कसाब और उसके साथियों ने मुंबई को दहला दिया था। पुलिस की मेहनत से कसाब जिंदा हाथ लग गया था।




फौलाद की दीवारें




कसाब को आर्थर रोड जेल में 15 बाय 15 फीट के फौलाद अर्थात स्टील से बने कैदखाने में रखा गया है। इसकी छत भी विशेष प्रकार के फौलाद से बनी है। इस पर ग्रेनेड हमले का भी कोई असर नहीं होगा। हवा के लिए फौलाद की इन दीवारों में छोटे-छोटे छेद किए गए हैं।




विशेष बंकर भी




इस कैदखाने के चारों ओर विशेष प्रकार की सामग्री का इस्तेमाल कर बंकर बनाए गए हैं। यहां चौबीसों घंटे अत्याधुनिक हथियारों से लैस पुलिसकर्मी तो तैनात हैं ही, सीसीटीवी कैमरों की मदद से कैदखाने के भीतर और बाहर की गतिविधियों पर पैनी नजर भी रखी जाती है।




आलीशन सुविधाएं भी मुहैया कराई गई




जेल में कैदियों को आधारभूत सुविधाएं भी बड़ी मुश्किल से मिल पाती हैं, लेकिन मुंबई हमले में पकड़ा गया पाकिस्तानी आतंकी अजमल कसाब इसका अपवाद है। वह पहला ऐसा कैदी है, जिसे आलीशान सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं। अधिकृत सूत्रों के मुताबिक आर्थर रोड जेल के स्पेशल सेल में बंद कसाब को एअरकंडीशनर, वाटर कूलर और एक नया कमरा देने की भी बात की गई है। उसकी सुरक्षा के लिए भारत-तिब्बत सीमा पुलिस को तैनात किया गया है।

from-danik bhaskar

आगे पढ़ें के आगे यहाँ

1 comment:

  1. sanjayji ye to har hindustani ka dard hai.jo paisa vikas par kharch hona chahiye vo aatankvadiyon par kharch ho raha hai.ab samay aa gaya hai ki ek khoon sabit ho gaya aur usaki saja fansi hai to baaki mukadamo ka intejar kiye bina jald se jald saja de kar desh ke samay aur paiso ko bachaya jaay

    ReplyDelete

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...