Friday, October 30, 2009

अशार

क्यो हमसे है वो खफा आजकल
उनसे मोहब्बत हुए ज़माना बीत गया ।
उनके उन्ही अदाओं पर मैं सदके जाऊं
महज़ यह लफ्ज़ अब एक फ़साना बन गया ।
लाख कोशिशों के उनकी चाहते खफगी के बाद
अब फिर चाहना उनको मेरा हौसला बना गया ।
ए खुदा फिर कभी ऐसे मोहब्बत का इम्तिहान मत ले
अब इश्क पर फौत होना मेरा ईमान बन गया ।
अब न होगा किसी और को शामिल अलीम
यह मेरी पुरी ज़िन्दगी का अहद बन गया ।

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...