Wednesday, October 7, 2009

वे सेम्पले जीते है..

वे सेम्पल जीते है॥
उनका अजब तराना है॥
उनकी प्यारी मुस्कान॥
उनका गजब का गाना है॥
वे सुंदर लगते है ,,
उनके दर पे जाना है॥
उनकी प्यारी लगाती बोली॥
उन्हें दिल में बसाना है॥
वे बातें करते हंस हंस कर॥
उनका अचरज फ़साना है॥
वे तकरार कभी न करते ॥
उनकी बाहों में जाना है॥
ये प्यार बड़ा बेदर्दी॥
जो बेसुरा ज़माना है॥
मै उनकी बनी दीवानी॥
अब सपने सजाना है॥
एक दिन सज धज कर॥
उनके घर जो जाना है,,
वे बने देश की उपमा ॥
हमें नाम कमाना है,,
मिले सभी वह खुशिया॥
हमें घर द्वार बसाना है,,,

2 comments:

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...