Wednesday, October 14, 2009

मेरा दिलदार न मिला॥

दिल्ली में हुयी दिल्लगी॥
दिलदार भी मिला॥
ख्वाबो में खोये रहते॥
थोडा प्यार भी मिला॥
कुछ दिनों के बाद ॥
तूफ़ान भी आ गया॥
वह नही था नसीब में॥
उड़ के कही गिरा॥
बीती बातो को याद करके॥
हम आंसुओ को पी रहे है॥
शायद वह वापस आए॥
आंशाओ में जी रहे है॥
न है कोई शिकायत ॥
न है कोई गिला॥
मुझे बड़ा अफशोस है॥
मेरा दिलदार न मिला॥

No comments:

Post a Comment

आपका बहुत - बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!
--- संजय सेन सागर

लो क सं घ र्ष !: राजीव यादव की सरकारी हत्या का प्रयास

आजादी के बाद से आज तक के इतिहास में पहली बार भोपाल कारागार से आठ कथित सिमी कार्यकर्ता कैदियों को निकाल कर दस किलोमीटर दूर ईटी  गांव में...